पति ने मुझे चुदवाया लंदन में

Antarvasna Hindi sex stories Kamukta पति ने मुझे चुदवाया लंदन में हैल्लो दोस्तों मेरा नाम जूली है.. में 32 साल की हूँ और में लंदन में रहती हूँ. दोस्तों में आज आप सभी को अपनी लाईफ की एक सच्ची कहानी सुनाने जा रही हूँ यह मेरी लाईफ की एक सच्ची घटना है जिसे में कभी भी भुला नहीं सकती. वैसे मुझे यह साईट बहुत पसंद है और में हमेशा इससे जुड़ी रहती हूँ. यह जो कहानी है यह मेरे साथ 2009 में हुई थी.. मेरा मतलब यह पिछले पांच साल पहले की बात है. मेरे पति बशीर जो 32 साल के हैं.. वो लंदन में पिछले पांच साल से थे और उनका कोई भी दोस्त लंदन में नहीं था और उस वक़्त हमारा कोई बच्चा भी नहीं था. तो एक दिन वो पेट्रोल पंप पर पेट्रोल लेने के लिए गये और जब वापस आए तो उन्होंने मुझे बताया कि उनकी एक लड़के से दोस्ती हुई है.. उसका नाम इरफ़ान है और उसकी उम्र साल 28 है.. लेकिन उसका एक साल पहले ही तलाक हो चुका है. फिर धीरे धीरे वो दोनों जब भी समय मिलता तो एक दूसरे से मिलने लगे और फिर उन दोनों ने एक साथ जिम भी जाना शुरू कर दिया और वहाँ पर एक बहुत बड़ा स्विमिंग पूल भी था.

दोस्तों वैसे तो हमारी सेक्स लाईफ अब तक बहुत अच्छी चल रही थी.. लेकिन एक बार उन्होंने सेक्स करते समय मुझसे कहा कि वो चाहते हैं कि कोई और मर्द मुझे चोदे और वो यह सब देखें. तभी यह बात सुनकर में बहुत चकित हो गई और फिर उन्होंने मुझसे माफी माँगी तो यह बात वहीं पर ख़त्म हो गई. फिर एक दिन बशीर यानी मेरे पति जिम से लौटकर घर पर आए और उन्होंने मुझसे कहा कि इरफ़ान ने तो आज हद ही कर दी. तो मैंने पूछा कि ऐसा क्या हुआ? तो उन्होंने मुझे बताया कि इरफ़ान आज तैराकी के कपड़े नहीं लाया और वो सफेद कलर की अंडरवियर में पूल में उतार गया और जब वो पूल से बाहर निकला तो उसका लंड साफ दिखाई दे रहा था. तो यह बात सुनकर में ज़ोर से हंस पड़ी और मेरे साथ वो भी हंस पड़े. फिर जब रात हुई तो हमने सेक्स किया और सेक्स के दौरान मैंने उनसे पूछा कि इरफ़ान दिखता कैसा है? तो उन्होंने कहा कि वो बहुत हेंडसम है फिर वो खुद ही मुझे पूल वाली बात को विस्तार में बताने लगे और उन्होंने कहा कि उसका लंड पूरा खड़ा हुआ था और लगभग 9 इंच लंबा होगा. तो यह बात सुनकर मुझे ना जाने क्यों मज़ा आने लगा और में पूरी बात सुनकर धीरे धीरे गरम हो रही थी और इस बात पर मेरे पति ने बहुत ध्यान दिया.

फिर जब अगली बार जब हमने सेक्स किया तो वो बार बार इरफ़ान की बातें करते और मुझे मज़ा आता.. वो कहते कि अगर तुम उसको पूल से निकलते हुए देख लेती तो तुम्हारे मुहं में पानी आ जाता और तुम ज़रूर उसको चूसती और फिर ऐसे ही हम हर बार सेक्स करते तो वो इरफ़ान का नाम जरूर लेते और हमारे सेक्स का मज़ा दुगना हो जाता. एक दिन मेरे पति और में पेट्रोल स्टेशन गये तो इरफ़ान वहाँ पर खड़ा था और जब मेरे पति ने मेरा उससे परिचय करवाया तो इरफ़ान और में दोनों ही एक दूसरे को देखते ही रह गये.. क्योंकि में बहुत सेक्सी हूँ और बहुत प्यारी भी और इरफ़ान भी कोई कम हेंडसम नहीं था. फिर उससे उस मुलाकात के बाद में रात उसके बारे में सोचती और ऐसा करना मुझे बहुत अच्छा लगता और बशीर भी मुझसे कहते कि इरफ़ान बार बार तुम्हारे बारे में मुझसे पूछता है कि भाभी कैसी हैं. फिर एक दिन मेरे पति ने मुझे कॉल किया कि तुम तैयार हो जाओ हम बाहर रात के खाने पर जा रहे हैं और यह पार्टी इरफ़ान हमे दे रहा है. तो में भी उनके आने से पहले तैयार हो गई और फिर हम एक रेस्टोरेंट में मिले और हम लोगों ने बहुत बातें की और खाना खाया. फिर जब हम वहाँ से बाहर निकले तो इरफ़ान ने कहा कि आप दोनों मेरे घर चलो में चाय पिलाता हूँ. तो मेरे पति जल्दी से मान गये और हम उसके घर पर वहाँ चले गये. वो एक रूम में रहता था.. लेकिन उसका घर ज्यादा छोटा नहीं था.. 3 बेडरूम ऊपर थे और एक नीचे, बाथरूम भी ऊपर ही था. फिर जब हम रूम में गये तो देखा कि वहाँ पर सिर्फ़ एक डबल बेड था.

तो में जाकर बेड पर बैठ गयी और इरफ़ान किचन में जाकर हम लोगों के लिए चाय बनाने लगा.. मेरे पति मेरे साथ थे. फिर उन्होंने कहा कि इरफ़ान तुम्हे बहुत घूर रहा है और उन्हे सेक्सी अहसास हो रहा है तो मैंने एक स्माईल दी और वो उठकर किचन में चले गये और जब वो दोनों चाय लेकर आए तो कुछ गडबड थी दोनों ही नर्वस लग रहे थे. फिर हम चाय पीने लगे और मेरे पति बाथरूम चले गये और मुझे कुछ समय पहले ही पता चला था कि वो मुझे इरफ़ान से चुदवाते हुये देखना चाहते हैं.. लेकिन मुझमें तो आगे बड़ने की हिम्मत नहीं थी. फिर वो बहुत देर लगाकर बाहर आए और बाहर आते ही बोले कि अरे इरफ़ान अभी तक कुछ नहीं हुआ? तो इरफ़ान बोला कि यार भाभी कहीं बुरा ना मान जाए? तो में यह बात सुनकर बहुत परेशान हो गई तो मेरे पति बोले कि तुम चिंता ना करो अगर जूली ने ना कह दिया तो नहीं करेंगे. फिर वो इरफ़ान को बताने लगे कि हम हमेशा सेक्स के बीच तुम्हारे पूल वाले हदसे की बात करते हैं और में जूली को बताता हूँ कि तुम्हारा लंड 9 इंच का है.

तभी मेरे पति के मुहं से यह बात सुनकर बहुत चकित हो गई और मैंने मुहं नीचे कर लिया और मेरे पति बोले कि इरफ़ान यार आज हमे अपना लंड खोलकर दिखाओ ना. तो उसने अपनी पेंट को उतार दिया.. उसका लंड सीधा मिसाईल की तरह खड़ा था और बहुत मोटा, लंबा था. मैंने मुहं नीचे ही रखा था और एक बार लंड को तिरछी नजर से देखकर अपनी दोनों आखें बंद कर ली. तो मेरे पति बोले कि जूली देखो ना.. नहीं तो में तुम्हारी कमीज़ उतार दूँगा. तो मैंने अपनी आखें खोली और इरफ़ान के लंड को घूरती रही और फिर मेरी चूत गीली होनी शुरू हो गयी. फिर मेरे पति मुझसे बोले कि जूली तुम इस लंड को चूसो तुम्हे बहुत मज़ा आएगा. तो मैंने कोई भी हलचल नहीं की.. लेकिन मेरी साँसे तेज़ हो गयी. फिर मेरे पति मेरे पीछे बैठ गये और मेरी कमीज़ उठाकर मेरे बूब्स दबाने लगे और जब इरफ़ान ने मेरी ब्रा देखी तो वो बार बार तारीफ करता रहा.. वाह भाभी क्या फिगर है? और मेरे पति ने मेरी कमीज़ उतार दी और ब्रा को भी उतार दिया.

तभी इरफ़ान की नज़रें मेरे सेक्सी जिस्म पर जम गई और मेरी नज़रें उसके लंड पर.. फिर मैंने देखा कि उसके लंड से जूस निकल रहा था और फिर अचानक से मेरे पति ने मेरा हाथ पकड़कर उसके लंड पर रख दिया और कहा कि जान इसे महसूस करो.. यह कितना सख्त है और यह आज तुम्हारे मुहं में और फिर चूत में जायेगा और अब यह सुनकर इरफ़ान ने आहें भरना शुरू कर दिया और मेरे हाथ खुद ही धीरे धीरे उसके लंड पर ऊपर नीचे होने लगा वाह उसका लंड बहुत सख्त था और फिर मैंने सोचा कि अब कुछ नहीं हो सकता और अब मज़े ही करो. फिर मैंने खुद ही उसके लंड को मुहं में ले लिया और उसके लंड को अपने दोनों हाथों में लेकर बहुत ज़ोर ज़ोर से चूसा.. इरफ़ान ज़ोर ज़ोर से आहें भरने लगा. फिर करीब 5 मिनट के बाद वो मेरे मुहं में ही झड़ गया और मैंने सारा वीर्य अपने मुहं में ले लिया लिया.. लेकिन थोड़ा सा अभी भी मेरे मुहं में था और जब उसने लंड को मेरे मुहं से बाहर निकाल लिया तो मेरे पति बहुत चकित हो गये..

क्योंकि मैंने पहले कभी उनका लंड अपने मुहं के अंदर नहीं लिया था. फिर इरफ़ान जंगली की तरह मेरी चूत को चूसने लगा और मेरी सांसे मेरे बस में नहीं थी में बहुत ज़ोर ज़ोर से सांसे ले रही थी मेरे दिल की धड़कने बड़ने लगी और में अपनी चूत को उसके मुहं पर दबाकर चुसवा रही थी. फिर बहुत देर चूसने के बाद वो बोला कि क्या भाभी अब अंदर डाल दूँ? तो मैंने कहा कि हाँ.. तो वो मेरे ऊपर चड़ गया और मेरे दोनों पैरों को फैलाकर लंड को चूत के अंदर डाल दिया और जैसे ही उसने मेरी चूत में लंड को थोड़ा सा अंदर सरकाया तो मेरी हालत बहुत खराब हो गई क्योंकि इतना मोटा, सख्त लंड मेरे पति का भी नहीं था और ज़ोर से चीख पड़ी और कहने लगी कि प्लीज धीरे करो में मर गई.

तो वो वहीं पर रुक गया और मेरे बूब्स को सहलाने लगा और जब उसे लगा कि मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ तो वो धीरे धीरे अपने लंड को आगे पीछे करने लगा और उस वक़्त मुझे इरफ़ान के लंड से अपनी चुदाई का बहुत मज़ा आने लगा था और मेरे पति अपना लंड हाथ में पकड़कर यह सब देख रहे थे. फिर इरफ़ान इतनी ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोद रहा था कि में अपने होश में नहीं थी. फिर उस बीच वो झड़ गया और मेरे पति को पता चल चुका था.. तो वो बोले कि क्यों इतनी जल्दी झड़ गए? तो मैंने अपनी आखें बंद कर ली और एक मिनट बाद इरफ़ान ने लंड को चूत से बाहर निकाला और मेरे मुहं में डाल दिया. में फिर से उसे चूसने लगी कुछ देर उसे चूसने के बाद वो फिर से खड़ा हो गया.. तो उसने मुझे कुतिया बनाया और मेरा सर मेरे पति की जांघ पर रख दिया और में अपने पति का लंड चूसने लगी और इरफ़ान ने मेरी गांड में लंड डाला और मुझे चोदने लगा. फिर मेरे पति ने मेरा सर पकड़कर अपने लंड के ऊपर दबा दिया और में कुछ बोल ना सकी.. मुझे दर्द के साथ साथ इतना मज़ा आ रहा था कि में चाहती थी कि यह मज़ा खत्म ना हो.

तभी थोड़ी देर बाद मेरे पति मुझसे बोले कि अरे जूली तुमने तो कमाल कर दिया.. तुम अभी तक चूदवा रही हो.. अभी तो कुछ देर पहले तुम झड़ी थी और मेरे साथ चुदाई में तो तुम दोबारा चूत मरवाने में बहुत देर लगाती थी. फिर मुझे बोलने का मौका मिला और मैंने कहा कि जान आपका दोस्त मेरी गांड मार रहा है और में बोल नहीं सकी क्योंकि आपने मेरा सर अपने लंड पर दबाया हुआ था और वो बहुत देर से अपनी उंगली से मेरी गांड को खोल रहा था और अब तो उसका पूरा का पूरा लंड मेरी गांड में है. तो यह सुनकर मेरा पति भी झड़ गया और उसका सारा वीर्य मेरे मुहं पर गिर गया और वो धोने के लिए टॉयलेट की तरफ भागा और इरफ़ान कभी मेरी चूत में तो कभी मेरी गांड में लंड डालकर चोदता रहा.

दोस्तों यह मेरी पहली बार गांड का अनुभव था और फिर जब मेरे आए तो हम अभी भी चुदाई कर रहे थे. में इतनी देर में बोली कि इरफ़ान में फिर झड़ने लगी हूँ. तो वो बोला कि भाभी में भी अब झड़ने वाला हूँ और उसने कहा कि भाभी में कहाँ पर निकालूँ? तो मैंने कहा कि मेरी चूत में और हम दोनों एक साथ झड़ने लगे.. उफ्फ़ इरफ़ान का वीर्य इतना ज्यादा निकला कि मुझे मेरी चूत में उसका गरम गरम लावा महसूस हो रहा था और शायद उसने अपने वीर्य से मेरी पूरी चूत भर दी थी. फिर हम दोनों उठकर टॉयलेट की तरफ भागे और वहाँ पर जाकर नहाने लगे और नहाते हुए भी उसने फिर से मुझे चोदा और फिर वहाँ पर मेरे पति भी आ गये.. उसके बाद मेरी चलने की हिम्मत नहीं थी तो उन दोनों ने मुझे गोद में उठाया और ऊपर एक बेडरूम में लेटा दिया और वहाँ पर कोई नहीं था. फिर मेरे पति ने मुझे अपने लंड पर बैठाया और अपने से चिपका लिया और इरफ़ान पीछे से आराम आराम से चोदने लगा. इस तरह मैंने दो लंड एक साथ लिए और वो दोनों मेरे अंदर झड़ गये और में भी उस रात को कभी भी भूल नहीं सकती .