कजिन की शादी में खूब मस्ती की

Antarvasna Hindi sex stories Kamukta हेलो फ्रेंड्स है. आई एम् न्यू हियर एंड मेरा नाम प्रिंस है. मेरी ऐज २३ साल है और मैं एक गुडलूकिंग बॉय हु. आई हेव नाइस हार्ट. मेरे लंड का साइज़ ९ इंच है और ३ इंच मोटा है. मेरा लंड किसी भी आंटी, भाभी और लड़की को जन्नत की सैर करवा सकता है. मैंने पहले भी काफी चुदाई की हुई है. अब मैं आपको बोर ना करते हुए, सीधे स्टोरी पर आता हु. ये कहानी बिलकुल सच्ची है और २ मंथ पहले की है, अब मैं अपने कजिन की शादी में गया था. वैसे तो मैं रायपुर का रहने वाला हु और शादी एतेंड करने नागपुर गया था फॅमिली के साथ. वहां पहुच कर हमे पता चला कि अंकल ने मेरे भाई की शादी के लिए एक प्राइवेट हॉल बुक करवाया है. वहां पर सभी गेस्ट के लिए रूम थे और सब फंशन भी उसी हॉल में थे. बहुत सारे लोग थे वहां पर.. बहुत सेक्सी – सेक्सी लडकिया और भाभी भी थी. सब के सब परी जैसी लग रही थी.. मन कर रहा था कि सब को चोद दू.. लंड एकदम तना था और बैठने का नाम ही नहीं ले रहा था.

थोड़ी देर फ्रेश होने के बाद, मैं घुमने निकला अपने रूम से. थोड़ी आगे जाने पर एक स्वीट सी लड़की दिखाई दी और वो बहुत ही क्यूट लग रही थी. उसने टॉप और स्कर्ट पहना हुआ था. एकदम गोरी और पिंकिश थी वो. मैं तो एकदम उसको देखता ही रह गया. उसका नाम विनीता था और उसकी ऐज २१ साल थी. उसका फिगर ३४ – ३० – ३२ था. मैं सिर्फ उसे ही देख रहा था. मैं उसे बहुत देर से घूरे जा रहा था और अब उसने भी नोटिस कर लिया था. वो मेरे सारे कजिन के साथ बैठी हुई थी. फिर मेरे कजिन ने मुझे बुलाया और हम सब एक दुसरे से मिल रहे थे.

फिर मेरी सिस ने उस से इंट्रो करवाया और विनीता ने हन्द्शेक किया. उसका हाथ बिलकुल सॉफ्ट थे. बहुत ही ज्यादा चिकने भी.. एक भी बाल नहीं था. मैं तो बस उसके हाथ को पकड़ कर कहीं खो सा गया था. वो ये सब नोटिस कर रही थी. वो मुझसे शरमा रही थी, फिर हम सब कजिन ने बाहर घुमने जाने का प्रोग्राम बनाया, शौपिंग के लिए और चिल करने के लिए. हम सब कार में जाने लगे और विनीता सबसे पहले कार में जाकर बैठ गयी और मैं उसको देख कर उसके बाजू में जाकर बैठ गया. वो बहुत खुश लग रही थी.

हम बीच की सीट पर बैठे थे. हमारे साथ मेरे २ कजिन भाई और ३ सिस भी थी. दोनों भाई सामने और मेरे एक साइड पर सिस और पीछे दो सिस बैठे थे और हम निकल गये शौपिंग के लिए. मॉल के रास्ते में हमने खूब सार्री बातें की और खूब हंसी मजाक किया. हम दोनों अब बिलकुल चिपक कर बैठे थे एक दुसरे से. उसकी जांघे बार – बार मेरे हाथो से टच हो रही थी. और मेरा लंड खड़ा हो रहा था. उसने ये नोटिस कर लिया था.

मैं भी धीरे – धीरे अपने हाथो से उसके लेग्स को रब कर रहा था और वो मेरे हाथ को जोर से दबा देती थी. सब कुछ क्लियर हो गया था मेरे लिए. मैंने धीरे से उसके कान में कहा – आई लाइक यू. वो एकदम से शरमा गयी बट उसने कोई रिप्लाई नहीं किया. हम मॉल पहुचे और सब ड्रेस खरीदने में बिजी हो गए और मैं विनीता के साथ था. हम घूम रहे थे और फिर वो एक शॉप के अन्दर ड्रेस लेने गये. हमने बहुत ड्रेस देखी, लेकिन कुछ पसंद ही नहीं आया. फिर मुझे एक शोर्ट स्कर्ट पसंद आई और मैंने उसके लिए खरीद ली. वो तो एकदम बहुत खुश हो गयी.

उसने मुझे वहीँ पर जोरो से हग कर लिया और बोली – आई लव यू. सब शॉप के लोग हमें देखने लगे. फिर हम वहां से चले गए और हॉल वापस आ गये. फिर मैंने उसको बोला – रात को मिलना, सब के सोने के बाद. वो मान गयी और मुझे ओके बोल कर और मेरे गाल पर किस देकर चली गयी. मैं अब बहुत बैचेन हो गया था और बेसब्री रात का वेट करने लगा था. रात को सब सोने के लिए अपने रूम में चले गए थे. सब लोग काफी थके हुए थे और सब जल्दी ही सो गए. मैं अपने रूम से निकल कर उसका वेट करने लगा था. थोड़ी ही देर में वो भी आ गयी थी.

उसने नाईट ड्रेस पहनी हुई थी.. उसी में वो बहुत सेक्सी लग रही थी. उसके बूब्स ऊपर – नीचे, ऊपर – नीचे हो रहे थे. मुझे समझ में आ गया था, कि उसने नीचे ब्रा नहीं पहनी हुई थी. जैसे ही वो मेरे पास आई, मैंने उसके गाल पर किस कर दिया. उसके बाद मैंने उसको अपने गले से लगा लिया और किस करने लगा. वो भी मेरा खुल कर साथ दे रही थी. हम दोनों के होठ लिप लॉक थे और मैं मस्ती में जोर से चूस रहा था. काफी देर किस करने के बाद, उसने बोला – सब यहीं कर लोगो क्या? चलो.. रूम में चलते है. तो मैं उसे रूम में ले जाने लगा. हॉल में बहुत सारे रूम थे. काफी रूम्स खाली पड़े हुए थे और लॉक भी नहीं थे.

तो हमने एक कार्नर वाला रूम चुना और रूम में चले गए. वह रजाई और बेडशीट बिछी हुई थी. फिर हम दोनों लेट गए और एक दुसरे को फिर से किस करने लगे. मैं उसके होठो को चूस रहा था. जीभ उसके मुह में डाली हुई थी और चूस रहा था. बहुत मज़ा आ रहा था दोस्तों.. उसकी गरम – गरम सासे हहहः अहहाह अहहहः अहहहः अहहहः … क्या बताऊ, कितनी मस्त थी.. फिर मैंने उसके बूब्स को दबाना शुरू कर दिया.. बहुत ही सॉफ्ट और मस्त बूब्स थे उसके… मेरे उसके बूब्स को मसलने पर वो सिस्कारिया ले रही थी.. अहः अहः अहहाह आउऔऔ आउऔअ ऊऊईईईईईईईईईम्म म्मम्माआआआआआआ आआआ आआअ.. प्लीज जोर से दबाओ ना.. प्लीज और जोर से… बोलने लगी थी.

फिर मैंने उसकी नाइटी को उतार दिया और अब वो मेरे सामने सिर्फ पेंटी में थी. क्या बताऊ दोस्तों, उसके बूब्स को देख कर तो मैं पागल ही हो गया था. एक गोरे पिंक निप्पल को, मैं तो अपने मुह में भर कर पागलो की तरह चूस रहा था.. फिर मैंने अपना हाथ नीचे किया और उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को रब करने लगा था. वो सिस्कारिया लेने लगी थी आआ अहहाह अहहाह अहहाह अमममम अममम म्मम्म अहह्हः… बोल रही थी. वो बहुत गरम हो चुकी थी.

जोर से चुसो.. खा जाओ.. मेरे बूब्स को जान.. प्लीज फक मी.. प्लीज फक मी. अब मैं भी नंगा हो गया. वो मेरा लंड देख रही थी.. और फिर थोड़ी देर बाद कुछ सोच कर बोली – इतना बड़ा अन्दर कैसे जाएगा? फिर मैं बोला – कुछ नहीं होगा. आराम से चले जाएगा. फिर उसने बताया, कि वो पहले भी कई बार सेक्स कर चुकी है. उसके एक बॉयफ्रेंड थे पहले और उसने उसकी बहुत चुदाई की थी. लेकिन उसका लंड भी मेरे लंड से छोटा था. उसने कहा – तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा है और मैंने पहले इतना बड़ा लंड लिया नहीं है. पता नहीं इतना बड़ा कैसे अन्दर जाएगा?

मैंने बोला – कुछ नहीं होगा. तुम ट्राई तो करो ना.. फिर मैंने लंड को उसके मुह के सामने रख दिया. वो समझ गयी थी, कि मैं अपने लंड को उस से चुस्वाना चाहता हु. उसने मेरे लंड को पकड़ा और अपने मुह में भर लिया. वो बड़े मज़े से मेरे लंड को चूस रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. उस दिन किसी भी लड़की ने मेरा एसा लंड नहीं चूसा था. मेरा १५ मिनट लंड चुस्वाने के बाद, मैंने उसको लेटा दिया और उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी पेंटी को किस किया. उसकी पेंटी बहुत गीली हो चुकी थी. मैं उसको स्मेल कर रहा था.. बहुत मज़ा आ रहा था.. उसकी स्मेल मुझे पागल बनाने लगी थी. फिर मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी. मैं तो उसकी चोट को देखता ही रह गया. वो एकदम क्लीन शेव थे और एक भी बाल नहीं था उसकी पिंक प्यारी सी छोटी सी चूत पर. उसकी गुलाबी गीली चूत बहुत चमक रही थी.

रात में अब मैंने उसकी चूत को चुसना चालू किया और वो एकदम से उछल पड़ी. ये उसका फर्स्ट टाइम था कि कोई उसकी चूत को चूस रहा था. वो सिस्कारिया ले रही थी अहः अहः अहाह जानन्न्नन्न्न्न न्न्न्नन्न अहहाह अहहाह अहहाह ईईईइ चुसो… और जोर से चुसो ना… बहुत मस्य चूस रहे हो… मस्ती में… प्लीज जोर से… उसकी गांड बहुत तेजी से हिल रही थी. वो मस्ती में तड़प रही थी, कि तभी मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में घुसा दी… उसकी गांड अब ऊपर उठ रही थी और वो अपनी चूत को अन्दर से चुस्वाने का मज़ा ले रही थी. फिर मैं उसकी उसकी में ऊँगली डालने लगा और फिर उसने पानी छोड़ दिया. मैंने उसका सारा पानी पी लिया.. बड़ा ही नमकीन स्वाद था उसके पानी का.

फिर मेरी नज़र उसकी गांड पर पड़ी.. बहुत ही टाइट और मस्त छेद था उसका.. फिर मैंने अपनी जीभ उसकी गांड के छेद पर लगा दी.. मैं मस्ती में उसकी गांड के छेद को चूस रहा था… और वो अहः अहः अहहाह आहाह्हा जान क्या कर रहे हो… हाहाह अहहाह वहां नहीं प्लीज हाहाहा अहः आआअ जोर से करो… बहुत मज़ा आ रहा है अहहाह अहहः ऊउईईइ ह्म्म्मम्म करने लगी. मैं उसके बूब्स की ओर बढ़ा और जोर से उसके बूब्स को मसलने लगा और मसल – मसल कर लाल कर दिए. वो इतनी गोरी थी, कि थोड़े से दबाने से उसके बूब्स लाल हो गये. फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर टिकाया और वो बोलने लगी – प्लीज गुसाओ.. जल्दी… जल्दी करो… वरना मैं पागल हो जाउंगी.

अब मैं अपना लंड जोर से अन्दर डालने लगा और वो चीख पड़ी आआआआआआ अहहहः धीरे आआआआआअ वरना मैं मर जाउंगी. मेरा अभी आधा ही लंड अन्दर गये था और उसको दर्द होने लगा था. मैंने धीरे – धीरे अन्दर – बाहर करना चालू कर दिया और वो गांड उठा कर मज़े लेने लगी थी… अहहाह अहहाह अहहः म्मम्मम जानन्न्नन्न नानानानानन बहुत मज़ा आ रहा है.. अहः अहहाह अहहाह अहहाह थोड़ी देर के बाद, मैं एक और जोर का धक्का लगाया और मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अन्दर घुस गया और पच – पच की आवाज़ आने लगी. उसकी चूत बहुत टाइट थी. पूरा अन्दर तक लंड घुस रहा था. मैं चूत की गरमी अपने लंड पर महसूस कर सकता था.

फिर उसको जोर – जोर से चोदने लगा. वो अपनी गांड हिला – हिला कर लंड को अन्दर ले रही थी. थोड़ी देर बाद मैं सीधा लेट गया और उसको अपने लंड पर बैठा लिया. ये पोजीशन में बहुत मज़ा आ रहा था. वो मेरे लंड पर खुद रही थी और पूरा लंड उसकी चूत की गहराई में जा रहा था और पच – पच की आवाज़ आ रही थी. फिर वो झड़ गयी और लेट गयी. मैंने फिर उसको किस किया और फिर उसने मेरे लंड को ५ मिनट तक चूसा और फिर मैंने उसको डौगी स्टाइल में किया.. और चोदना शुरू किया.

अब मैं उसको फुल स्पीड में चोद रहा था. लंड पूरी चूत के अन्दर जा रहा था.. बहुत मज़ा आ रहा था. वो सिस्कारिया ले रही थी अहहाह अहः अहहाह फक मी… फक मी अहः अहहाह उम्म्मम्म म्मम्म म्मम्म हम्म्म्म य्म्म्मम्म अहहाह अहहः अहहाह कह रही थी. वो अब तक पता नहीं कितनी बार झड़ चुकी थी. अब की बार, मैं भी झड़ने वाला था और मैंने अपना सारा पानी उसकी चूत में छोड़ दिया और उसकी चूत को अपने माल से भर दिया. फिर हम लेट गए और एक दुसरे को किस करने लगे. वो बहुत थक गयी थी. वो ४ बार झड़ चुकी थी और फिर हमने काफी देर तक किस किया और फिर हमने कपड़े पहने और अपने – अपने रूम में आ गये. फिर मैंने कैसे उसकी प्यारी सी गांड मारी. वो कहानी अगली बार बताऊंगा. तो दोस्तों, ये थी मेरी शादी में सेक्स की रात मिलने की कहानी. मुझे आप अपने विचार बताये, कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी… इंतज़ार रहेगा…