Antarvasna अमीना की मस्ती–4

जय अब कहाँ मानने वाला था। वो उठ के रुबीना के पास आ कर बैठ कर उसकी Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai गोरी नंगी टाँगों को सहलाते हुए बनियान में बंद मम्मे ऊपर से हल्के से मसलते हुए बोला, “अरे रुबीना हम मर्दों का काम ही होता है चिकनी मस्त लड़कियों को छेड़ना, अब देख तेरी अम्मी बाहर निकलती है तो कितने ही मर्द उसे छेड़ते हैं और मैं भी बहुत छेड़ता हूँ पर तेरी अम्मी कभी गुस्सा नहीं होती। बोल वो मवाली लड़के क्या छेड़ते हैं तुझे? क्या बोलते हैं तेरी यह गदरायी गोरी जवानी देख कर?”

रुबीना ने फिर जय का हाथ अपने जिस्म से हटाया। उसकी अम्मी को भी ऐसे छेड़ने की बात सुन कर रुबीना को अजीब फ़ीलिंग आयी। वो जानती थी कि उसकी अम्मी सुंदर है पर यह नहीं पता था कि मर्द उसे भी छेड़ते हैं। जय का हाथ हटा कर वो वहीं बैठ कर बोली, “क्या? आप अम्मी को छेड़ते हैं? आपसे तो उम्र में काफी बड़ी हैं अम्मी और आपकी बहन जैसी हैं! आप और दूसरे मर्द अम्मी को क्या छेड़ते हैं?”

जय फिर हाथ उसकी जाँघ पे रख कर बनियान के नीचे हाथ डाल कर बोला, “हाँ रुबीना तेरी अम्मी को बहुत छेड़ा है मैंने इसलिये तेरी अम्मी पहले मुझसे गुस्सा थी लेकिन अब नहीं। तू बता वो लड़के क्या बोलते हैं तुझे, मैं किसी को नहीं बताऊँगा समझी… और उसके बाद तुझे बताऊँगा कि मैं और दूसरे मर्द तेरी अम्मी को कैसे छेड़ते हैं।”

जय के हाथ को बिना रोके रुबीना बोली, “ना..मैं… वो लोग जो बोलते हैं वैसा कभी बोल ही नहीं सकती। आप सोचो वो लोग कैसा बोलते होंगे कि में आपको उनकी बात का एक भी अल्फाज़ नहीं बता सकती। बड़े गंदे और नालायक लड़के हैं वो।” रुबीना की जाँघ पकड़ कर उसे अपने पास खींच कर उसकी बनियान की नेक से उसके साफ़ दिख रहे मम्मों पे उँगली फेरते हुए जय बोला, “अब वो क्या बोलते हैं यह मुझे समझा तो ही मैं कह सकुँगा ना कि वो कितनी गंदी बात करते हैं तेरे बारे में। देख मैं तेरी अम्मी के छोटे भाई जैसा और तेरे दोस्त जैसा हूँ, तू बता मुझे दिल खोल कर वो क्या बोलते हैं तुझे, बिल्कुल शरमा मत मेरी रुबीना।”

रुबीना थोड़ी पीछे हटी लेकिन इतना भी नहीं कि जय का हाथ उसे छू ना सके। अपनी गोरी जाँघों पे खुद हाथ घुमाते हुए वो बोली, “नहीं ऐसा नहीं…, मैं नहीं बोल सकती। आप तो कह रहे थे कि आप अम्मी को छेड़ते हो… तो आप को तो पता होना ही चाहिये। आप और दूसरे लोग क्या बोल कर छेड़ते हो मेरी अम्मी को?”

जय जान गया था कि रुबीना यह सब चाहती है इसलिये उसे पकड़ कर अपनी गोद में बिठा कर जय लंड उसकी गाँड पे रगड़ते हुए बोला, “अरे रुबीना तेरी अम्मी को तो मैं और दूसरे लोग, ‘क्या माल है? आती क्या आज रात मरे घर? घोड़ा देखना है क्या मेरी पैंट में छुपा हुआ? आती क्या मेरे घोड़े पे सवारी करने? तेरा हॉर्न बजाने दे ना’ ऐसा बोलते थे। तेरी अम्मी तो बिना शर्माये लोगों को देख कर मुस्कुरा देती है… अब तू बोल वो लड़के क्या बोलते हैं तुझे?”

रुबीना की नंगी गोरी जाँघ मसलते हुए जय उसकी गर्दन किस करने लगा। इस बात पे रुबीना बड़ी मचली। उसका जिस्म मस्ती से भरने लगा। वो एक मादक अँगड़ायी ले कर बोली, “प्लीज़ छोड़ो मुझे, आप क्यों मेरा जिस्म सहला रहे हो। और यह जो आप और दूसरे लोग अम्मी को छेड़ते हो वो तो कुछ भी नहीं, वो लड़के इससे भी गंदा बोलते हैं।”

एक हाथ से रुबीना की गोरी जाँघें और दूसरे से सीना सहलाते हुए गर्दन किस करते हुए जय बोला, “देख रुबीना, जब तक तू मुझे नहीं बताती कि वो लड़के क्या छेड़ते हैं तुझे, मैं तुझे नहीं छोड़ूँगा, ऐसे ही तेरा जिस्म सहलाता रहुँगा। तूने अगर मुझे सब बताया तो तेरी अम्मी को लोग और कैसे-कैसे मस्ती से छेड़ते हैं वो तुझे बताऊँगा।”

रुबीना फिर जय से दूर हो कर पास की सोफ़ा कुर्सी पर जाते हुए बोली, “उम्म्म… देखो मैं कहती हूँ मुझे मत छूना। मुझे अजीब सा लगता है आपका छूना। वो लोग बहुत गंदा बोलते हैं मेरे जिस्म के बारे में। वो मुझे देख कर बोलते हैं कि मैं कितनी गोरी हूँ, मेरी मक्खान जैसी टाँगें हैं, टाँगें ऐसी हैं तो जाँघें कैसी होंगी, और अगर जाँघों का यह हाल है तो अंदर की जन्नत तो कैसी होगी। ओह रुबीना रानी एक बार तेरी उस नंगी जन्नत की सैर करवा दे हमें। एक साथ ४-४ खंबे देंगे तुझे रानी, बोल आती है क्या हमारे साथ। यह सब बोलते हैं वो लड़के। छी, यह सब सुन कर मुझे बहुत शरम आती है।”

जय रुबीना के पास आ कर उसे खड़ी करके फिर मम्मे सहलाने लगा। रुबीना को उकसाने के लिये जिससे वो खुल कर सब बताये, जय बोला, “अरे तो इसमें क्या गंदा बोलते हैं? गोरी टाँगें और जाँघें क्या गंदा है? वैसे भी देख तू गोरी है तो गोरा तो बोलेंगे ही ना? मैंने तेरा बाकी जिस्म देखा है अब बस अंदर की जन्नत देखनी है तेरी। मुझे लगा कुछ और गंदा बोलते हैं जैसे तेरी अम्मी को लोग बोलते हैं, पर यह छेड़ छाड़ का बोलना तो बड़ा आम बोलना है।”

रुबीना ने फिर जय का हाथ अपने जिस्म से हटा कर सोफ़ पे आकर टीवी ऑन किया। टीवी पे अब उदिता गोसवामी और इमरान हशमी का गाना चल रहा था। गाना देखते हुए वो बोली, “नहीं-नहीं, वो लोग दूसरी लड़कियों को तो ऐसे नहीं छेड़ते। कभी भी अगर मैं टी-शर्ट पहन कर जाऊँ तो वो लोग मेरी साइज़ देख कर मेरे पास से गुजरते हुए मेरी ब्रा की साइज़ के बारे में ऊँचे सुर में बातें करते हैं, जैसे कि मेरी ब्रा के साइज़ के बारे में शर्त लगाते हैं और कई बार तो ऐसा बोलते हैं कि इतनी उम्र में इतने बड़े कैसे हो गये, कितनों ने मसला है तुम्हें?”

टीवी पे चल रहा सैक्सी गाना देख कर जय और गरम हो गया और अब पीछे से रुबीना को पकड़ कर वैसे ही किस करते हुए बोला, “तो तूने अपनी ब्रा का साइज़ बताया ना उनको? बेचारे कितने दिन से पूछ रहे हैं ना तेरा साइज़? वैसे रुबीना तुझे किसी ने मसला है क्या? मतलब तेरे इन मम्मों को मसला है कभी?” बनियान के नीचे हाथ डाल कर मम्मे सहलाते हुए जय आगे बोला, “यह बता उन लड़कों में कौनसा लड़का तुझे सबसे ज्यादा पसंद है और कौन सबसे ज्यादा छेड़ता है?”

जय का हाथ बनियान से खींचते हुए रुबीना बोली, “उफ़्फ़्फ़, प्लीज़ हाथ निकालो ना। मुझे उन लड़कों में से कोई पसंद नहीं है… सब के सब मवाली हैं साले पूरा दिन कॉलेज के बाहर सिगरेट या फिर गुटखा खाते रहते हैं। अपनी ब्रा की साइज़ थोड़ी किसी लड़के को बताऊँगी मैं? वो तो सिर्फ़ मेरा शौहर ही जानेगा शादी के बाद और अब मेरी अम्मी जानती है। मैंने तो किसी को नहीं बताया।”

जय का हाथ ज़ोर से खींचने के चक्कर में बनियान फट गया और रुबीना के दोनों मम्मे नंगे हो गये। रुबीना ने अपना सीना शरम से छुपा लिया। जय वैसे ही रुबीना को गोद में उठा कर उसका नंगा सीना और क्लीवेज किस करते हुए अपने बेडरूम में ले जाते हुए बोला, “क्या रुबीना, तूने इतना ज़ोर से हाथ खींचा कि बनियान फट गया, अब मैं कल क्या पहनुँगा? मुझे लगता है कि तू झूठ बोल रही है रुबीना, तुझे उन लड़कों में कोई एक तो पक्का पसंद है जो तू हर दिन उनके ताने सुन कर गुजरती है। वैसे शादी के पहले अम्मी और बाद में शौहर… इन दोनों के बीच में लड़की अपनी ब्रा का साइज़ अपने बॉय फ्रेंड को भी बताती है… समझी रुबीना?”

जय के मुँह से अपना सीना बचाते हुए रुबीना बोली, “आपको तो बाद में कल पहननी है, मैं अब क्या पहनूँ? क्या अम्मी के आने तक यह फटी बनियान पहनूँ?” रुबीना को बेड पे लिटा कर उसके हाथ हटा कर जय उसके पास लेट कर निप्पल से खेलते हुए बोला, “जाने दे रुबीना, तू यही फटी बनियान रहने दे, इससे तुझे लगेगा तेरे जिस्म पे कपड़े हैं और मुझे तेरा जिस्म दिखेगा भी। वैसे तूने बताया नहीं कि कितने लड़कों ने तेरा यह जिस्म सहलाया है और तुझे उन लड़कों को अपनी ब्रा का साइज़ बताने में क्यों शरम आती है?”

रुबीना को पहली बार मर्द के सामने अपना नंगा सीना दिखाने और निप्पल को मर्द से मसलवाने में मज़ा आने लगा था। वो जय को रोके बिना बोली, “तो क्या करूँ मैं? उनको सामने से जवाब दूँ? और दूँ भी तो क्या जवाब दूँ? कि मेरी ब्रा का साइज़ ३२ है और ब्रा के कप “बी” के हैं? प्लीज़ आप मेरे जिस्म को मत छूना, मुझे गुदगुदी होती है। और वो मेरे सीने का दाना ऐसे क्यों मसल रहे हो आप? आपने बताया नहीं कि अम्मी को लोग और कैसे-कैसे छेड़ते हैं?”

रुबीना के हाथ हटा कर उसका सीना पूरा नंगा देख कर जय झुक कर बारी-बारी उसके निप्पल खूब अच्छे से चूसते हुए बोला, “अरे वाह, यह अच्छा किया जो तूने कम से कम मुझे तो अपनी ब्रा और कप का साइज़ बता दिया रुबीना इसे जवानी का खेल बोलते हैं, हम जैसे मर्द तेरी जैसी गरम सैक्सी मस्त लड़की के साथ यह खेल खेल कर सिखाते हैं। बोल कि जब मैं तेरा यह सीने का दाना मतलब निप्पल किस करता हूँ तो अच्छा लगता है ना तुझे? तेरी अम्मी के साथ खेल कर मैंने इस खेल की बहुत प्रैक्टिस की है… तेरी अम्मी तो इस खेल में माहिर है । तेरी अम्मी की बात थोड़े वक्त के बाद बताऊँगा, पहले यह बोल कि कितने लड़कों ने तेरा यह जिस्म छुआ है रानी?”

पहली बार मर्द से निप्पल चुसवाने से रुबीना बड़ी गरम हो गयी। वो हल्की सिसकरियाँ भरते हुए बोली, “हाँ बड़ा अच्छा लगता है जब आप निप्पल चूसते हो तो…! प्लीज़ पूरा लो ना और पूरा, मेरी पूरी चूचियाँ चाटो ना। आज आप मुझे जवानी का पूरा खेल सिखा देना जैसे मेरी अम्मी को सिखाया है। मेरी चूंची चूसते हुए बता दो कि आपने अम्मी को यह खेल कैसे सिखाया। मुझे उन लड़कों में से कोई भी पसंद नहीं, वैसे उन लड़कों के साथ यह करने का मन कैसे हो? उन गुंडे मवालियों से क्या मुँह लगना? हाँ भीड़ का फायदा ले कर लड़के कभी-कभी मेरा जिस्म सहलाते हैं, मेरा सीना और पिछवाड़ा दबाते हैं और पिछवाड़े पे रगड़ते हैं… बस उतना ही लड़कों से ताल्लुक हुआ है और कुछ नहीं।”

उसकी पूरी चूचियाँ चाट कर और निप्पल चूसते हुए जय अब रुबीना के ऊपर बैठ गया। उसका लंड रुबीना की चूत पे था और रुबीना के निप्पल से खेलते हुए वो झूठी कहानी बताने लगा, “ओके रुबीना… अब सुन… तेरी अम्मी से ये खेल मैंने कैसे सीखा। कुछ साल पहले तेरी अम्मी अपने मायके आयी हुई थी। तब मेरी उम्र उन्नीस-बीस साल थी। जब वो रास्ते से गुजरती थी तो मैं और मेरे दोस्त उसे छेड़ते थे। तेरी अम्मी कभी नाराज़ नहीं होती थी और मुस्कुरा कर निकल जाती थी इसलिये हमारी हिम्मत बढ़ गयी थी। हम उसे देख कर गंदी-गंदी बातें बोलते और इशारे करते। फिर एक दिन ऐसे ही हम चार दोस्त उसे छेड़ रहे थे तो वो हमारे पास आकर खड़ी हो गयी। उसके चेहरे पर गुस्सा था इसलिये हम डर गये। वैसे भी वो उम्र में हमसे काफी बड़ी थी। तेरी अम्मी हमें डाँटते हुए बोली कि “सालों तुम्हें सिर्फ छेड़ना ही आता या हकीकत में भी कुछ करने की औकात है तुम्हारी!…तुम्हारे लौड़ों में दम है तो करके बताओ नहीं तो दफा हो जाओ मादरचोदों!” फिर वो हमें अपने साथ ले गयी और हमारे लौड़े चूसे और हमने भी उसे खूब मसला। अगले २-३ हफ्तों में तेरी अम्मी मौका देख कर हमें रोज़ बुलाती और हम चारों के साथ मज़े करती। पर आज तुझे लंड खिला कर तेरी चूत में घुसा के तुझे जवानी का पूरा खेल सिखाऊँगा।”

जय द्वारा अपनी अम्मी के बारे में बतायी बात सुन कर रुबीना जल्दी से वो फटी बनियान अपने जिस्म पे ओढ़ कर फटी आँखों से जय को देखने लगी। उसकी अम्मी ने जिस हिसाब से जय और उसके दोस्तों से खुद को मसल्वाया था वो सुन कर उसकी चूत और गीली हो गयी। बनियान को अपने सीने पर लपेटते हुए वो बोली, “क्या बात करते हो? अम्मी तो इतनी शरीफ हैं और और वो ऐसे कैसे कर सकती हैं? मेरी अम्मी किसी के साथ, शी… इतने गंदे ज़लील काम कैसे कर सकती हैं …।”

रुबीना के हाथ से फटी बनियान खींच कर उसे दूर फेंक कर अब रुबीना के नंगे मम्मे मसलते हुए जय बोला, “इसमें कैसी गंदगि रुबीना? तेरी माँ अम्मी आईटम थी तब भी और अब भी है, साली अब भी देख कैसे मेंटेंड रखा है उसने अपना जिस्म। एक बात है रुबीना तेरी अम्मी जैसे लंड आज तक किसी ने नहीं चूसा, क्या मस्ती और लगन से चूसती है अमीना। अरे अगर वो शादीशुदा नहीं होती और मेरी उम्र की होती तो मैं भगा कर ले जाता उसे और तेरे बाप से भी ज्यादा चोदता रहता उस माल को।”

जय अब रुबीना को खींच कर अपनी गोद में बिठा कर उसके मम्मे मसलने लगा। रुबीना भी गरम हो कर अपनी गाँड उसके लंड पे दबाने लगी। अपनी अम्मी की बात सुन कर उसे बड़ा अच्छा लग रहा था। इसका मतलब था कि उसकी अम्मी जिसे वो एक अच्छी औरत मानती थी वो तो कई मर्दों से अपना जिस्म मसलवा चुकी थी और कितने ही लंड चूसे थे उसने। रुबीना को ज़रा भी शक नहीं हुआ कि जय झूठ बोल रहा था। अपनी अम्मी की रंगीन करतूत सुन कर रुबीना और गरम हुई और वो जय के गले में हाथ डाल कर जय का चेहरा किस करती हुई बोली, “गंदी और ज़लील बात तो है ही ना? कोई औरत या लड़की मस्त लगे तो उसका मतलब यह थोड़े ही है कि तुम्हें उसे छेड़ने लग जाओ… उम्र का तो लिहाज़ करना चाहिये…. और अम्मी ने भी अपनी इज़्ज़त का लिहाज़ किये बिना आप लोगों को लिफ्ट देकर सब कुछ करवाया। अब आप ही देखो ना, आपने कितनी बार मेरी बनियान उतार दी पर अभी तक मुझे यह नहीं बताया कि आप की निक्कर पर यह सब दाग कैसे हैं। वैसे क्या अम्मी का फिग्र वाकय में इतना मस्त है?”

एक हाथ से रुबीना के मम्मे मसलते हुए और दूसरे हाथ से पहले उसे कस कर अपने लंड पे दबाते हुए जय अब रुबीना की गोरी जाँघें सहलाता हुआ बोला, “रुबीना जब तेरी अम्मी जैसी गरम औरत हमारे सामने हिरोईन बन कर चलेगी तो हम उसके साथ ऐसे ही छेड़खानी करते हैं… हमें हमेशा तेरी अम्मी जैसे औरत चाहिये होती है… फिर चाहे उम्र में बड़ी हो या छोटी। देख अपनी सब बात होने के बाद तुझे बताऊँगा कि दाग कैसे लगे। तेरी अम्मी की फ़िगर देख अब कितनी अच्छी हुई है, साली के मम्मे और पिछवाड़ा एकदम उभर आया है। वैसे रुबीना तुने भी अभी तक मुझे खुल कर बताया नहीं कि वो लड़के क्या छेड़ते हैं और कहाँ टच करते हैं तेरा यह जिस्म?”

रुबीना भी अब गरम हो गयी थी और उसने जय का टी-शर्ट उतार दिया। वो जय की तरफ़ घूम कर उसकी गोद में बैठ गयी। अब वो दोनो सिर्फ़ शॉट्‌र्स में थे। उसकी बांहों में रुबीना बेशर्म हो कर बैठी थी। जय का पूरा चेहरा किस करते हुए रुबीना बोली, “हिरोईन बन कर चले मतलब कैसे चले? मैं कुछ समझी नहीं। फ़िगर अब अच्छी हुई मतलब क्या कुछ साल पहले अम्मी का सीना कैरम जैसा था? खुल कर बताओ ना। देखो मैंने आपको बताया कि वो लोग क्या बोल कर छेड़ते हैं, रही बात कहाँ टच करते हैं… वो तो मैं उनको करने नहीं देती। हाँ कॉलेज से छूटते वक्त वो लोग भीड़ का बहुत फायदा उठाते हैं… आगे पीछे मुझे कवर करके मेरी छाती और मेरी जाँघों को सहलाया करते हैं।”

जय अब रुबीना की चूत पे अपना लंड रगड़ने लगा। उसे लगा नहीं था कि यह कमसिन लड़की इतनी गरम माल होगी। यह तो साली अपनी अम्मी से भी गरम थी। आखिर एक गरम औरत की बेटी भी उसके जैसी गरम ही होगी… यह सोच कर जय रुबीना के कड़क मम्मे ज़रा मस्ती से मसलते हुए बोला, “हिरोईन बन कर मतलब… ऊँची ऐड़ी की सैंडल पहन कर गाँड ठुमकाते हुए, नाक चढ़ा कर, हम लोगों को चूतिया समझ कर चलती थी…। कैरम बोर्ड नहीं… तेरी अम्मी तब भी मस्त माल थी, सीना काफी उभरा था… अब सीना ज्यादा बड़ा हुआ है पर उसके मम्मों में झुकाव नहीं है ज़रा भी। एक दम टाइट मम्मे हैं साली के और गाँड भी काफी भरी हुई है, लगता है तेरा बाप अमीना की गाँड में पेलता होगा ज्यादा।। जब तेरी जाँघ और छाती मसलते है वो लड़के तो कैसा लगता है तुझे रुबीना?”

रुबीना अब खुद जय के लंड पे अपनी चूत रगड़ते हुए बोली, “आपको बहुत मज़ा आता होगा ना माँ को मसलने और उससे मस्ती करने में? लड़कों के सहलाने से तो मुझे अच्छा लगा पर उनका बोलने का ढंग जरा भी नहीं, एक दम जंगली हैं वो लड़के, लड़की को बस हवस की नज़र से देखते हैं। रही बात कि अम्मी और डैड क्या करते होंगे… यह पता नहीं… पर मैंने कहीं पढ़ा है कि प्रेगनेंनसी के बाद लेडीज़ की बैक साईड फ़ूल जाती है और अम्मी को तो टिवन्स हुई थीं… इसलिये उनका पिछवाड़ा इतना बड़ा हुआ होगा।”

रुबीना की कमर में हाथ डाल कर उसे अपने लंड पे दबाते हुए जय अब रुबीना के मम्मों को मसलते और निप्पलों से खेलते हुए बोला, “मुझे पता है कि प्रेगनेंनसी के बाद औरत की गाँड फूलती है लेकिन गाँड को बार-बार लंड से चोदने से भी गाँड फूलती है जैसे तेरी माँ की फूली है। अगर तेरा बाप नहीं तो मेरी तरह कोई और तेरी मस्त माल अमीना की गाँड में लंड पेलता होगा, कुत्तिया बना कर चोदता होगा तेरी अम्मी को… वैसे भी अमीना तो छिनाल है… लंड देखते ही मुँह और चूत में पानी आ जाता है उसकी। अब वो लड़के क्या बोलते हैं वो तूने बताया लेकिन इससे क्या ज्यादा गंदा बोलते हैं जिससे तू उनको जंगली कहती है… यह नहीं बताया, कुछ भी बोलते होंगे मुझे खुल कर बता सब रुबीना।”

रुबीना अब जय को ज़रा भी रोक नहीं रही थी। वो चाहती थी कि जय आज उसे चोद डालें। वो अपनी अम्मी के बारे में इतना गंदा सुनने के बाद और गरम हो गयी थी। अब पूरी बात बताने का फैसला करते हुए वो जय का मुँह अपने निप्पल पे दबाती हुई बोली, “वेल… मुझे शरम आती है बोलने में पर फिर भी बताती हूँ। वो लड़के जो बोलते हैं ना वो बहुत गंदा है। मेरे जिस्म के बारे में कहते हैं कि कितनी गोरी और मक्खन जैसी टाँगें हैं, टाँगें ऐसी हैं तो जाँघें कैसी होंगी और अगर जाँघों का यह हाल है तो अंदर की जन्नत तो कैसी होगी? वो यह भी बोलते हैं कि रुबीना की बहन और अम्मी भी एक दम मस्त हैं, इन तीनों को एक साथ नंगी करके मस्ती करनी चाहिये। वो और बोलते हैं कि रुबीना की अम्मी सबसे मस्त है, एक साथ उस चुदक्कड़ राँड को चोदना चाहिये, एक आगे से, एक पीछे से और तीसरा उसके मुँह में देना चाहिये। ज़हरा को भी ऐसे ही छेड़ते थे वो और अब वो हॉस्टल गयी तो मुझे अकेली को छेड़ते हैं। वो लड़के लोग तो यह भी कहते हैं कि इस अम्मी और मैं उनके मोहल्ले में जा कर उनके डाँडिया लेकर डाँडिया खेलें। यह सब सुन कर मुझे बहुत शरम आती है… पर यह सब सुन कर मैं गरम भी हो जाती हूँ। कई बार उन्होंने भीड़ में मेरा पूरा जिस्म मसला है, वो चारों एक साथ आगे पीछे और साईड में आते हैं और मेरे जिस्म का जो हिस्स जिसे मिले, वो मसलने लगते हैं। मुझे अच्छा लगता है उनसे मसलवाना इसलिये मैं भी रेज़िस्ट नहीं करती उनको।”

रुबीना के जवाब से जय का लंड और कड़क हो गया तो वो रुबीना की एक चूंची चूसने और दूसरी को मस्ती से मसलने लगा। रुबीना का नंगा जिस्म सहलाते हुए वो बोला, “अरे रुबीना, वो लड़के सच ही तो बोल रहे हैं। तेरी अम्मी और तुम दोनों बहनें हो ही इतनी मस्त कि हम मर्दों का लंड तुम्हें देखते ही खड़ा हो जाये। कसम से मेरी भी अब तमन्ना है कि अमीना, तुझे और ज़हरा को एक साथ नंगी देखूँ। उफ़्फ़्फ़ बहनचोद साली देख तेरी यह जवानी देख कर मेरा लंड कैसे खड़ा है। यह अच्छी बात है कि चार-चार लड़के एक साथ तुझे मसलते हैं रुबीना… इससे तू ज्यादा से ज्यादा मर्दों के साथ चुदाई कर सकेगी।” रुबीना का हाथ अपने लंड पे दबाते हुए जय आगे बोला, “ले, तू भी अपनी अम्मी जैसे मेरा लौड़ा सहला। मेरा लंड सहला कर बता कि मेरा डाँडिया कैसा है रानी? खेलेगी इसके साथ? ज़हरा को भी खूब मसलते होंगे ना लड़के? कभी किसी लड़के का डाँडिया छुआ था तूने जान?”

जय का गरम लौड़ा सहलाना रुबीना को बड़ा अच्छा लगा। वो शॉट्‌र्स के ऊपर से लंड को खूब ज़ोरों से मसलते हुए सिसकरियाँ भरने लगी। जय के मुँह में अपनी चूंची और दबाते हुए वो बोली, “ऊँफ्फ़्फ़्फ़ कितना अच्छा लग रहा है आपका डाँडिया मसलने में। सच बोलो मेरे और अम्मी के जिस्म में सबसे अच्छा किसका जिस्म है? वेल… अम्मी के कईंयों के साथ पोस्ट मैरिटल लफड़े है… यह तो मैं मान नहीं सकती। सच बोलूँ तो आपका यह डाँडिया देख कर मुझे मेरी कॉलेज याद आ गयी। जब हम कॉलेज से छूटते थे तब बहुत भीड़ होती थी और यह मुस्टंडे मेरे आगे पीछे होते थे। जो पीछे वाला लड़का होता वो अपना लंड मुझसे सटा के रख कर पूछता था कि कैसा है मेरा लंड रुबीना? तो मैं भी जवाब देती थी कि बाहर निकाल कर दिखा तो सही… काला है कि गोरा। ऐसे एक बार उन लड़कों ने मुझे और ज़हरा को भीड़ में पकड़ कर वही सवाल किया तो मैंने भी वही जवाब दिया। मेरा जवाब सुन कर शाम को नुक्कड़ के एक कॉर्नर में ले कर उन तीनों ने अपने लौड़े बाहर निकाले। हाय अल्लाह, कितने काले और लंबे थे… उनके लंड मुँह पे गीले भी थे। उन्होंने हमे उनके लंड सहलाने को दिये और उस दिन हमें खूब मसला। मुझे तो बहुत मज़ा आया पर ज़हरा डर गयी थी अब भी यह लड़के मुझे देखते हैं और बुलाते हैं पर मैं कभी-कभी ही जाती हूँ और उनसे अपना जिस्म मसलवाती हूँ। अंकल उन लड़कों के लंड से आपका लंड बड़ा है और गरम भी ज्यादा है।”

रुबीना की कहानी सुन कर जय खुश हुआ। रुबीना को गोद में उठा कर वो खड़ा हुआ और अपनी शॉट्‌र्स निकाल दी। अब जय मादरजात नंगा था। रुबीना उसका लौड़ा देखती रही। इतना लंबा, मोटा और टाइट लंड वो पहली बार देख रही थी। जय शॉट्‌र्स के ऊपर से रुबीना की कमसिन चूत मसलते हुए उसका हाथ अपने लंड पर रख कर बोला, “बहनचोद तू बड़ी मस्त लड़की है, इतना मसलवाया अपना जिस्म उन लड़कों से और अब बता रही है। तेरी अम्मी हम चार दोस्तों के साथ मस्ती करती थी और तू ३ लड़कों के साथ करती है। मज़ा तो खूब मिलता होगा ना तुझे रानी? ज़हरा इतनी से बात से डर गयी? ज्यादा से ज्यादा क्या होता? वो लड़के लोग उसे चोदते ही ना और क्या करते? वैसे भी तू और तेरी बहन जैसी गरम लड़कियाँ हमारी रंडी बनने के लिये पैदा होती हैं, कुछ जल्दी बनती हैं जैसे तेरी अम्मी… कुछ लेट जैसे ज़हरा बनेगी। रुबीना, सच बोलूँ… जान तो तेरी अम्मी से अच्छी तू है क्योंकि तू कमसिन चूत है, तेरी अम्मी ने ना जाने कितने लंड लिये होंगे पर तू पहला लंड लेने वाली है… वो भी मेरा लंड। उन लड़कों को तूने अच्छा जवाब दिया रानी और यह भी अच्छा हुआ कि उन लड़कों ने तुम बहनों को अपने लौड़े दिखाये। रुबीना जब वो तेरी गाँड पे लंड रगड़ते या तू हाथ से उनके लंड मसलती तो तुझे इच्छा नहीं होती लंड चूत में लेने की? अपनी जवानी उनके हवाले क्यों नहीं की? अरे तेरी अम्मी के तो शादी बाहर कितने ही लफड़े चलते हैं । जवान लड़कों के लौड़ों की तो दीवानी है तेरी अम्मी! कई बार मैंने तेरी अम्मी को तुम्हारे नौकर के साथ बेडरूम में रंग रलियाँ मनाते देखा है। तेरी अम्मी बड़ी चुदक्कड़ है समझी? साली दारू पी कर मस्त हो कर चुदवाती है। साली रुबीना तू मेरी जान है, अब देख मैं नंगा हुआ हूँ… क्या तू अपना यह सैक्सी जिस्म नंगा करके नहीं दिखायेगी मुझे जान?”

रुबीना जय का लंड दोनों हाथों से मसलने लगी। जय ने उसे मस्त गरम किया था। वैसे भी वो किसी लड़के से चुदवा लेती लेकिन जय का लंड देख कर उसे यकीन हुआ कि उन लड़कों में किसी का भी लंड जय जितना नहीं था। जय का लंड मस्ती से मसलते हुए रुबीना बोली, “आपने इतनी औरतों को चोदा है तो आप जानते ही हैं कि हर जवान लड़की को अपना जिस्म मसलवाने का दिल करता है, सब चाहती हैं कि कोई उनकी जवानी की तारीफ करते हुए उसके साथ कोई मर्द खेले। आखिर यह जवानी सिर्फ आइने में देखने ले लिये तो है नहीं। मैं लंड तो लूँगी आपका लेकिन अभी थोड़ा रुको। मैं चाहती हूँ कि मेरी पहली चुदाई बड़े आराम से हो, आप मुझे और मैं आपको पूरा गरम करेंगे और बाद में आप मुझे चोदो। मैंने कई बार चाहा कि उन लड़कों में किसी से चुदवा लूँ पर फिर अम्मी और हम बहनों के बारे में वो इतनी गंदी बात करते थे कि मूड ऑफ हो जाता और मैं इरादा बदल देती। उसके बाद मैं कई दिन उनसे नहीं मिलती पर जब जिस्म नहीं मानता तो जा कर उनसे फिर मसलवा लेती हूँ। और वो जो नौकर की बात आप करते हैं… तो वो बड़ा हरामी है। मैं जानती हूँ कि अम्मी उससे चुदवाती है। मैंने भी कईं बार उनको चुदाई करते देखा है। एक बार जब अब्बू ने उनको रंगे हाथ पकड़ा तो अम्मी ने अब्बू को बताया कि नौकर का दिमाग फिरा है और वो ज़रा पागल है। बेचारे अब्बू, अम्मी की बात सच समझ बैठे और इज़्ज़त की वजह से बात दबा दी। इससे अब अम्मी को पूरी आज़ादी मिल गयी और वो अब भी उस नौकर से चुदवाती है।”

रुबीना से लंड सहलवाते हुए जय अब रुबीना की शॉट्‌र्स में हाथ डाल कर उसकी नंगी गाँड मसलने लगा। रुबीना के मुँह से उसकी अम्मी की सच्चाई जान कर जय को अच्छा लगा। अब एक हाथ रुबीना की गाँड पे और दूसरा उसकी नंगी चूत पे रख कर जय बोला, “हाँ रुबीना, मैं जानता हूँ कि औरत कितनी भी शरीफ हो पर किसी मर्द के मसलने से गरम हो कर अपनी टाँगें उसके सामने फ़ैला देती है जैसे तेरी अम्मी और अब तू। तुझे तो चोदने में बड़ा माज़ आयेगा। खूब गरम करके मस्ती से चोदुँगा तुझे। रुबीना तेरी अम्मी को एक-दो बार मैंने उस नौकर से चुदवाते देखा है। साली क्या मस्ती से लेती है उसको अपने ऊपर और दारू के नशे में कितनी मस्ती से चुदवाती है तेरी रंडी माँ उससे। कसम से रुबीना आज तुझे चोद कर बाद में ज़हरा को भी चोदुँगा। तुम बहनों को बड़ी बेरहमी से एक साथ चोदना चाहिये।”

अपनी नंगी चूत पे जय का हाथ रुबीना को बड़ा अच्छा लगा। अब सिर्फ़ नाम के लिये उसके जिस्म पे शॉट्‌र्स थी। जय शॉट्‌र्स में हाथ डाल कर उसकी चूत और गाँड सहला रहा था। वो भी जोश में आकर जय का लंड और गोटियाँ मसलते हुए बोली, “हाँ अम्मी तो बड़ी चुदक्कड़ है। जब अब्बू कभी काम से टूर पे जाते हैं तो अम्मी उस नौकर के साथ रात भर रहती है उनके बेडरूम में। आप आज मुझे और जब मौका मिले तो ज़हरा को भी ज़रूर चोदना। वो उन मवालीयो से डरती है पर आप जैसे मर्द से नहीं डरेगी… वैसे भी हॉस्टल में पता नहीं क्या गुल खिलाती होगी।”

जय ने अब जोश में आकर रुबीना की शॉट्‌र्स उतार दी। दोनों अब बिल्कुल नंगे थे। जय का लंड प्री-कम से गीला था और रुबीना की चूत भी गीली थी। जय रुबीना की गीली चूत को हाथ से मसलते हुए बोला, “हाँ साली रुबीना, मुझे तू, ज़हरा और अमीना, तीनों पसंद हो। दो हफ्ते पहले जब से तेरी अम्मी मिली है तब से उसे तो खूब चोदा…., तुझे आज मसलके चोदुँगा… अब रही सिर्फ़ ज़हरा तो उसे भी चोदुँगा जब वो हॉस्टल से आयेगी छुट्टियों में।”

जय जोश-जोश में बोल गया कि सबरीन उसे दो हफ्ते पहले ही मिली है | जय के मुँह से सब बात सुनने के बाद रुबीना बड़ी बेताब हो गयी। वो खुद जय के बिना बोले नीचे बैठ कर एक बार उसका का लंड पूरा मुँह में ले कर चूसने के बाद नशीली आँखों से जय को देखते हुए बोली, “देखो मैं जानती हूँ कि आप जब से यहाँ आये हो तब से अम्मी आपसे चुदवा रही हैं पर ये नहीं जानती थी कि आप मेरी अम्मी को दो हफ्तों से ही जानते हो? बोलो ना? मैंने आपको सब बताया और अब आपसे चुदवाने वाली भी हूँ तो आप भी बताओ कि अम्मी को कैसे मिले और कब कहाँ और कैसे-कैसे? आपका लंड तो बहुत तन गया है, मेरी चूत भी गरम है, आप अम्मी की बात सच-सच बताओ और फिर मेरी चूत चोदो।”

जय समझ गया कि अब उसे पूरी बात बतानी होगी। वो रुबीना को बेड पर बिठा कर अपना लंड उसके होंठों पे रख कर बोला, “ठीक है रुबीना… मैं तुझे पूरी बात बताता हूँ पर तब तक तू मेरा लंड चूसती रह।” रुबीना ने मुँह खोल कर जय का लंड मुँह में लिया और उसे चूसने लगी। रुबीना के बालों पर हाथ फेरते हुए और उसका मुँह हल्के से चोदते हुए जय बोला, “हाँ रुबीना, यह सच है कि मैं तेरी अम्मी को १०-१२ दिन के पहले जानता भी नहीं था। मैंने उसे पहली बार कुछ ही दिन पहले बस में गरम करके चोदा था। उस चुदाई की कीमत में तेरी अम्मी मुझे उसके मायके का मुँह बोला भाई बना कर घर में लायी, तुझे चुदवाने के लिये। इसके लिये तेरी अम्मी ने मुझसे अपने पैर और सैंडलों के तलुवे तक चटवाये। हर दोपहर को मैं तेरी अम्मी को दारू पिला कर चोदता था।”

रुबीना ने लंड चूसते हुए आँख मरते हुए लंड को अच्छे से चूसते हुए वो बोली, “हाँ मैंने आपको आपको दो-तीन बार अम्मी को चोदते हुए देखा था। और जब आपका लंड देखा तब मैंने आप से चुदवाने का फ़ैसला किया। मैं यह भी जानती हूँ कि आज आप मुझे चोद सकें इसलिये ही अम्मी ने मेरा रूम लॉक किया और बाहर गयी जिससे मैं आपके सामने करीब-करीब नंगी रहूँ और आपसे चुदवाने में टेंशन ना हो मुझे। पर आपको बताना पड़ेगा कि आपने अम्मी को बस में कैसे छेड़ा था और फिर आपका कैसे आपसे चुदवाने के लिये तैयार हुई। बताओ ना अम्मी आपकी गिरफ़्त में कैसे आयी?”

हल्के से निप्पल मसलते हुए जय ने शुरू से रुबीना को उसकी अम्मी की चुदाई की पूरी दास्तान सुनायी। जय की पूरी बात सुन कर रुबीना अब और गरम हो गयी। जिस हिसाब से जय ने उसकी अम्मी को बस की भीड़ में सहला कर गरम करके फिर चोदा… वो सुन कर रुबीना उसका लंड और मस्ती से चूसने लगी। जय आंहें भरते हुए, रुबीना के बालों में हाथ घुमाते हुए हल्के-हल्के उसका मुँह चोद रहा था। रुबीना की कमसिन जवानी मसलते हुए और उसे अपना लंड चुसवाने में जय को बड़ा अच्छा लग रहा था। रुबीना का चेहरा सहलाते और उसके बालों में हाथ घुमाते हुए जय उसका मुँह चोदते हुए बोला, “आहहहहहह साली… रंडी अमीना की छिनाल बेटी, बड़ा अच्छा लग रहा है मुझे तेरा मुँह चोदना। खूब मस्त चूसती है तू लौड़े को रुबीना, ऐसा ही मज़ा आया था जब तेरी अम्मी ने मेरा लौड़ा चूसा था, पर तू कमसिन है, अनचुदी है… इसलिये और अच्छा लग रहा है मेरी रंडी रुबीना, ऐसे ही चूसती रह मेरा लौड़ा।” रुबीना एक हाथ से अपने बाल चेहेरे से हटाते हुए और दूसरे हाथ से जय के लंड को हिलाते हुए, लंड चूसती हुई वो बार-बार जय की तरफ़ ऊपर देखती और जय के चेहरे पर छायी खुशी देख कर और मस्ती से लंड चूसने लगती।

अपना लौड़ा अच्छे से चुसवाने के बाद जय ने रुबीना को खड़ा किया और उसे बांहों में भर कर उसके होंठ चूमने लगा। रुबीना के मम्मे जय के चौड़े सीने पर पूरी तरह दब गये थे और रुबीना का हाथ अब भी जय के लौड़े पर था। रुबीना के हाथ से अपना लौड़ा छुड़ाते हुए जय ने फिर रुबीना को बेड पे लिटाया। साँसों की तेज़ी से रुबीना का सीना उछल रहा था और इससे उसके मम्मे बड़ी मस्ती से ऊपर नीचे हो रहे थे। इतने टाइट और गोल मम्मे जय ने आज तक नहीं देखे थे। जय मन-ही-मन में ईशवर का शुक्रिया अदा कर रहा था कि उसने इतनी कमसिन लड़की को उसके सामने नंगी रखा था ताकि वो उसे चोद सके।