ऑफिस फ्रेंड की बीवी को नंगी कर के चोदा

हेलो फ्रेंड्स,मेरा नाम antarvasna राकेश है. में जम्मू से हूँ kamukta मेरी हाईट ५फुट ८ इंच हे. और मेरे लंड का साइज़ ६ इंच है. पर २ इंच मोटा और चूत का तेल निकालने के लिए काफी हे अब में आपके आमने सेक्स स्टोरी लेकर आया हु.. ये कहानी २ हफ्ते पहले की है, मेरे ऑफिस के फ्रेंड मदन जो की आसाम का रहने वाला है, उसकी शादी कुछ २० दिन पहले हुइ है. और वो १ मंथ की छुटी के बाद अपनी बीवी के साथ जम्मू आ गया था.

वो हमारी फेक्ट्री के ऑफिस ब्लोक के उपर वाले रूम्स में से एक रूम में रहता है. मेरा रूम भी उनके पास है, हमारी अच्छी बनती है.

मदन की वाइफ एक कमसिन कली है, नाम मीरा (नाम चेंज) मीरा मदन से कुछ ६ साल छोटी है और हाईट भी कम है उसकी, लगभग ४ फीट होगी, पर फिगर एकदम मस्त, एकदम टाइट हार्ड बूब्स, अबाउट ३४. २८ की कमर और ३० की गांड, कमर छोटी थी पर फुल चालू टाइप फीलिंग, मुझ से सेम डे मिली और शाम को घुल मिल गयी. देसी पोर्न स्टोरी डॉट कॉम बात सेटरडे की है, मेने मदन से शादी की पार्टी मांगी, फक्ट्री में ५:३० छुटी हो गई थी, मेने कहा कल छुटी हे तो यार दारू पीला आज, मदन दारू के मामले में लालची था, बोला मेरे पास तो पैसे नही है, अगले हफ्ते दे दूंगा, मेने उसे १००० दिए, और कहा पार्टी तो आज ही लेनी है, तू बाइक ले जा और सामान ले आ, चाहे तो भाभी को भी साथ ले जा, पर चिकन भी ले आना,

मदन भाभी को ले कर नीचे गया, मेरे से चाबी ली और अभी बैठा ही था की बोला रुको मेरा मोबाईल ऊपर रह गया. भाभी को मैने ऑफिस में बिठाया और मदन चाबी लेने उपर चला गया.

थोड़े टाइम में मदन आया, तो भाभी उठी और में उनके पीछे था, जैसे ही डोर के पास पहुंची मेने प्यार से उनकी गांड पर हाथ टच किया, और बहार निकला, बाइक पे बेठी तो तो मुझे देखकर उसने स्माइल दी, वो चले गये, और ६:३० तक वापिस आये. विथ ओल मटीरियल्स.

मेने भी ऑफिस बंध किया और फेक्टरी का मेन गेट अन्दर से बंध किया, में रूम में गया, और जाते समय पूछा किस टाइम आऊ?

भाभी – आप नहा धो कर आ जाओ राकेश जी.

मदन – हा, तब तक माछली बन जाएगी.

नहा कर मेने शोर्टी पहनी विधाउट अंडरवियर विथ अ संडो ओन टॉप और दरवाजा बजाया, भाभी ने खोला दरवाजा, बोली आओ जी.

में – मदन कहा है.

भाभी – नहां रहे है.

भाभी किचन में गई, और फिश प्लेट में डाली, और आवाज लगाई भाई साहिब जरा इधर आना, चाट मसाला उतरकार दो, उन्होंने ऊपर रखा है.

में – में उतर दू या आप को उठाउ और आप उतार लेगी.

भाभी – अभी तो आप ही उतर दो, फिर कभी उठा लेना.

मेने उतार कर दिया, और रूम में आकर नीचे बेठ गया, छोटा सा टेबल लगा था. मेरे सामने मदन बैठ गया और साइड में भाभी.

मदन ने ड्रिंक बनाई, साला लालची मेरे लिए स्मोल और अपने लिए लार्ज बनाता गया. हमने २-२ पेग पिए थे की भाभी डिनर रेडी कर रही थी किचन में, बर्फ ख़तम हुई और भाभी को बोला फ्रिजर में से बर्फ दे, डबा बड़ा था तो उससे टूटी नही.

मदन उठने लगा तो लडखडाया तो मेने कहा रुक में तोड़ कर लाता हु, मेने भाभी से दब्बा लिया तो एक हाथ पकड़ा, उसने हलके से स्माइल दी, और तब में सिंक के पास बर्फ तोड़ चूका था, तो बोली अब मुझे दे दो, में छोटे पिस कर कर लाती हु. मेने ओके कहा. और जैसे ही मुडा फिर से उसकी गांड दबा दी. उसके मुह से हलकी सी आआआ हाहाहाह्ह निकली, पर वो मदन से कुछ नही बोली और मेरी हिमत बढ़ गई. देसी पोर्न स्टोरी डॉट कॉम

खाना बनाकर हमारे पास आ कर बेठ गई. फेक्टरी एरिया में ८-१० लाइट का कट होता है. और जैसे ही लाइट गयी, भाभी का हाथ मेरे थाइज पर आया, और प्यार से उसने दबाया.

पहले तो मुजे लगा शायद में सपना देख रहा हु. पर जब मेने मोबाईल की टोर्च ओन की तो भाभी स्माइल कर रही थी. एकदम आराम से बैठी हुई थी.

में केंडल लेने किचन में गया. केंडल तो मिल गयी पर माचीस नही थी. तब भाभी ने कहा भाई साहेब रुको में देती हु माचीस, मदन वह बैठा रहा और भाभी मेरे पास से गुजरी और मेरे लंड पर थोडा हाथ टच हुआ, लंड में हरकत आई और थोडा हिल गया.

भाभी ने माचीस जलाई और कहा.

भाभी – लगता है उन से बड़ा है.

में – वह तो देखकर पता लगेगा, अगर तुम चाहो तो आज ही देख सकती हो.

भाभी – आप उनको संभालो पहले.

मेने फिर केंडल उठाई और भाभी के लेफ्ट बूब्स को प्यार से दबाया और बहार आ गया.

हमारी बोतले ख़तम होने वाली थी. मेने तो २ पेक पिए थे. बाकि मदन गटक गया था.

उसने लास्ट के २ पेग बनाये और भाभी को कहा खाना ले आ अब, दोनों ने लास्ट पेग लगाया और मेरे दारू चड़ने की एक्टिंग चालू की.

में – यार बहुत चड गयी है. अब तो रूम तक भी जाना मुस्किल है.

मदन – खाना तो खाले अब.

में – हां हा हमारी भाभी के हाथ का खाना तो खाना ही है.

हम तीनो ने साथ में बैठ कर खाना खाया.

खाना खाते ही मदन वोशरूम चला गया.

रात के ९:३० हुए थे, मदन उठ नही पा रहा था. तो मेने उसे उठाया और उसके बेड पर उसको छोड़ा, भाभी मुझे छोड़ने दूर तक आइ, तो मेने जोर की आवाज लगाई, भाभी टोर्च ले आओ बहार अँधेरा हे, मेरे को निचे तक छोड़ आओ और फिर दरवाजा बंध कर लेना.

मदन ने अपनी बीवी को कहा, जाओ भाई साहिब को नीचे छोड आओ, हम रूम के बहार निकले तो मेने भाभी को पकड़ कर किस कर दिया. और टोर्च बंद कर दी. भाभी ने किस का फुल रिस्पोंस दिया. फिर हम नीचे उतरे, मेने मेरे रूम का लोक खोला.

भाभी – भाईसाब आप सो जाओ में चलती हु.

में – भाभी मेरा चेक तो कर जाओ.

भाभी – अगर वो आ गये तो.

में – वो अब नही उठेगा सुबह तक.

भाभी – थोडा टाइम रुक जाओ, अगर हिले भी नही वो मेरी लेने को, तो में नीचे आ जाउंगी.

में – अच्छा ठीक है पर एक बार अपनी चूत के दर्शन तो करा दो.

भाभी आना कानी करने लगी, तो मेने अपना लंड बहार निकला जो की पूरा खड़ा था, और भाभी के हाथ में दे दिया. उसे पता नही क्या हुआ की वो एकदम बैठी और मुह में ले कर १०-१२ बार चुसा और बोली दरवाजा खुला रखूंगी ११ बजे आ जाना आप उपर ही. मेरे को यह चाहिए.

ये सुनकर में खुश हो गया. और लेपटोप पर सुलतान मूवी देखने लगा. ताकी नीद ना आ जाये, ११.२० पर में सीधा मदन के रूम पर गया. दरवाजा खुला था. सीधा बेडरूम में गया तो देखा मदन नंगा लेटा है, और भाभी भी नंगी सिर्फ ब्रा पेंटी में, उसने मुझे देखा तो बहार आ गई. मेने आते ही पूछा हो गई चुदाई.

भाभी – नही आज तो आपका लेना है.

में – तो उसे क्यों नंगा किया.

भाभी – ताकी उसे लगे उसने रात को मेरी ली.

में – अच्छ्ह्हहा.

हम जिस रूम में थे वहा लाइट ओन थी, बोली लाइट ऑफ कर दो. मेने कहा आज नही मेरी सुहागरात तो आज है. और में भाभी पर टूट पड़ा. मस्त पिंक निप्पल चूसने लगा, उसकी पेंटी उतारी तो एकदम वाइट चूत, मेने चाटना शुरू किया. वो तडपने लगी, बोली अब डाल भी दो.

में – इतनी जल्दी क्या है.

भाभी – में जडने वाली हु, और भाभी जड गई.

में फिर से उसके ऊपर आ गया. और किस करने लगा. उसने अपने लेग्स खोल दिए थे. और मेरा लंड पकड कर अन्दर डालना चाहती थी. पर में पीछे हटा, और उसे चूसने को कहा.

बोला पहले डालो, फिर चुसुंगी, मेने ज्यादा न तडपाते हुए भाभी की कोमल चूत पर अपना मोटासा लंड सेट किया, और जोर लगाया. चूत बहुत ही टाइट थी, सिर्फ टोपा अन्दर गया, और वो चिलाने लगी.

मेने उसके लिप्स पर अपने लिप्स रखे, और पूछा डाल दू, भाभी बोली हा डाल दो. और फाड़ दो, मेने जोर का धक्का मारा और लंड चूत को छेदता हुआ अन्दर चला गया.

वो रोने लगी, में रुक गया, १० सेकेंड के बाद चुदाई चालू की, उसे मजा आ रहा था, भाभी उछलने लगी, और कहने लगी, आआआआ हाहाहा आआआआ हहहहाहहाहा आआआआआ मजजजजाजजा आआआआआ रहा है. चोदो चोदो चोदो भाई साहेब आज में आपकी हु, आज आया मजा.

मेने भाभी को कहा मुझे अभी नही आ रहा, तो भाभी ने कहा फिर कैसे आएगा, साली तेरी गांड मारनी है, भाभी बोली आज नही फिर किसी दिन मार लेना, आज मेरी चूत को ठंडा करो. फिर मेने उसे घोड़ी बनाकर खूब चोदा, भाभी २ बार जड गई थी. तो मे थोडे टाइम बाद भाभी की चूत में ही जड गया.

में लेट गया वही, और भाभी ने मेरा लंड अपने मुह में ले लिया. लंड फिर से खड़ा हो गया, बोली अब आप जाइए १ बज गया है. मेने फिर जाने से पहले रूम के बहार खड़े हो कर उसकी एक बार और चूत मारी, उसके बाद अपने रूम में जा कर सो गया. सुबह ११ बजे मेरी नींद खुली. देसी पोर्न स्टोरी डॉट कॉम

में बहार आया तो मदन मेरा वेइट कर रहा था.

भाई बाइक की चावी दे, कुछ सामान लेना है, २ घंटे तक आ जाउंगा. मदन के जाते ही में ऊपर गया तो भाभी को पूछा मजा आया रात को, बोली बहुत मजा आया.

में उन्हें फिर से किस करने लगा, और स्कर्ट उपर कर के फिर से एक बार चोद डाला, नीचे आ कर नहा धो कर खाना खा कर सो गया.

अभी उनको आये ३ हफ्ते हो गये है, और भाभी लगभग ७-८ बार चुदाई करवा चुकी थी. में तो जैसे उसका दूसरा पति हु यहाँ पर, दिन को शर्माती है, और रात को चूत मरवाती है.