बस में मिली माल को धीरे से चोदा

हेल्लो दोस्तो मी आकाश antarvasna अपनी पहली कहानी kamukta लिखने जा रहा हु. ये कहानी मेरी और एक बस ट्रावेलर रोजी की हे, जिसका फिगर ३६-२८-३६ आहे, एक दिन बस में सफ़र करते हुए एक लड़की मिली जिसे देख के ही चोदने का मन करता था.

हे असली कहानी हे जो मुझे लोहरी (पंजाब का फेमस फेस्टिवल) के नजदीक मिली थी, में दुसरे सिटी से बस में अपने सिटी की तरफ आ रहा था और वो मुज से पहले ही बस में मोजूद थी पर हमारी कोई बात नहीं हुई.. जैसे ही बस स्टेंड आया तो में उतरने के लिए गेट के पास गया. उसे भी उतरना था और में उस के पीछे था. एकदम जब बस ने ब्रेक लगायी में गलती से उसकी तरफ सरका और उसके मस्त गांड से मेरा लंड टकरा गया और मेरा लंड खड़ा हो गया क्यूंकि पहली बार किसी की गांड पे लगा था.

उसे महसूस हुआ शायद और वो मेरी तरफ घुर कर देखने लगे, तो मेने उसे सोरी बोला और बस से उतर गया और ओटो में बैठ गया क्यूंकि मुझे आगे जाना था. तभी वो लड़की भी उस ओटो में आ कर बेठ गयी और मेरी तरफ देखने लगी, जब में उसको देखने लगा तो उसने मुज से अपनी नजरे चुरा ली. फिर मेने उसे फिर से सोरी बोला बस में जो हुआ था उसके लिए. उस ने कहा इट्स ओके. फिर मेने उसका नाम पूछा तो उसने रोजी बताया.

में – नाईस नेम.

वो – थैंक्स.

में – तुम क्या करती हो?

वो – कोलेज में पढ़ती हु अभी लोहरी की छुट्टियों में घर पर आई हु.

में- बहुत अच्छा.

वो- आप क्या करते हो?

में – में जॉब करता हु और होलीडे पर घर आया हु.

वो – क्या बात हे.. सेम सेम.

में – आप बहुत सुंदर हो.

वो शरमाते हुए बोली तुम मजाक कर रहे हो.. में इस दुनिया में पहली सुंदर लड़की हु इस तरह से आप मुझे कह रहे हे.

में – कोई शक हे आपको? मुझे जो लगा मेने कह दिया.

अब वो मेरे साथ एकदम फ्रेंक हो गयी थी.

मेने फिर रस्ते में अच्छा मौका देख कर उसे आय लव यु कह दिया.

वो – इतनी जल्दी सब चालू हो गया आपका?

मेने कहा मुझे तो हो गया.

वो – मुझे थोडा समय दे दो.. में उसके बारे में सोचना चाहती हु.

में – आज रात को तुम क्या कर रही हो?

वो – मेने अभी कुछ सोचा नहीं हे.

में – तो फिर आज रात को मूवी पर चलते हे.

वो – ठीक हे में कोशिश करती हु.

मेने उसे उसका नम्बर पूछा तो उसने बता दिया फिर रात को ९ बजे मेने काल कीया और रात का प्लान पूछा तो उसने अपना एड्रेस बताया और मुझे एक घंटे बाद आने को बोला.

मेने जव उसके घर के बहार जा कर उसे कोल किया तो उसके कहा की ऊपर घर पर आ जाओ, अभी में तयार नहीं हु. में ऊपर चला गया और वो अभी घर पे अकेली थी, उसने मुझे बताया की मम्मी पप्पा मेरेज पर गए हे. मेने कहा ओके और वहा पर सोफे पर बैठ गया, वो मेरे लिए कोल्ड ड्रिंक ले कर आई, अभी उसने नाईट गाउन पहना था, वो जब मुझे कोल्ड ड्रिंक देने के लिए जुकी तो मुझे उसके बोबे साफ दिख गए. मेने उसे कहा की तुम तयार नहीं हुई तो उसने कहा की पप्पा मम्मी अचानक चले गए अब में नहीं जा सकती. तो मेने कहा की इट्स ओके, कोई बात नहीं, उसने कहा की मुझे बहुत बुरा लग रहा हे, की तुम आये और में नहीं जा सकती हु.

मेने कहा ठीक हे कोई प्रॉब्लम नहीं हे. फिर उसने कहा की हम ऐसा करते हे की तुम और में डिनर साथ में घर पर कर लेते हे तो मेने कहा ओके. फिर वो किचन में चली गयी और करीब १५ मिनिट बस हमने साथ डाइनिंग टेबल पर बैठ कर डिनर किया, बाद मे उसने कहा तुम ड्रिंक में क्या लोगे? बियर या वोडका? तो मेने कहा मेने कभी नहीं पि, फिर मेने कोल्ड ड्रिंक ली और उसके वोडका पि ली और उसने कहा मेने पहली बार ट्राय की वोडका, यह पापा की हे और कुछ देर बाद उसे चढ़ने लगी. फिर उसने एमपी३ प्लेयर लगा दिया और हम दोनों डांस करने लगे.

और अचानक से उसने मुझे आय लव यु कहा तो में एकदम से शोक हो गया था, उसने बोला की वो बोलना तो पहले से चाहती थी पर नहीं बोल सकी. इतना कहा कर उसने मुझे लिप कीस किया और स्मूच करने लगी. मेने उसे कहा की तुम्हारे घर वाले कब तक आएंगे? तो उसने कहा डोंट वरी, वो सुबह आएंगे. फिर में एकदम गर्म हो गया और मेरे हाथ अपने आप उसके बूब्स पर चले गए और वो मोन करने लगी, मेने मौका देखा और उसके बूब्स को मसलने लगा और वो भी मेरा साथ दे रही थी, फिर मेने एक हाथ उसके बूब्स पर रखा और दूसरा चूत के ऊपर रख दिया और उसकी चूत को पेंटी के ऊपर से ही रब करने लगा. उसकी पेंटी पहले से ही एकदम गीली हो चुकी थी.. फिर मेने उसकी नाईटी उतार दी और वो सिर्फ पिंक कलर की ब्रा और पेंटी में थी. एक दम स्वर्ग की अप्सरा लग रही थी.. फिर मैंने उसकी ब्रा का हुक खोला तो उसके बुबस आजाद हो गए और मैं मुंह में लेकर चूसने लगा, वह बहुत गरम हो रही थी. फिर मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी और उसे ब्लोजॉब देने को कहा. तो वह मानी नहीं. मैंने कहा कोई बात नहीं. फिर हम 69 की पोजीशन में आ गए. वो एक हाथ से मेरे ६ इंच के लंड को सहला रही थी और मैं उसकी चूत को चाट रहा था.

मैंने उसकी टांग ऊपर उठाई और उसकी चूत के ऊपर लंड फिरने लगा तो वह मचल उठी और लंड लेने के लिए तड़पने लगी, तो मैंने लंड चूत पर रखा और दो इंच लौड़ा अंदर घुसा दिया, उसकी तो बुरी हालत हो गई और एकदम से चीख पड़ी और रोने लगी. मैं उसे किस करने लगा, और एक जोर का झटका मारा तो पूरा का पूरा अंदर चला गया और उसका बुरा हाल हो गया. फिर कुछ देर रुक गया उसके होंठ पर किस करने लगा. और जब उसका दर्द कम हो गया तो फिर धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा. अब उसे भी मजा आने लगा और वह भी मेरा साथ दे रही थी. फिर मैंने उसे अपने ऊपर बैठाया और खुद कुद कुद कर मौन कर रही थी.फिर करीब २५ मिनट की चुदाई के बाद मेरा निकलने वाला था तो उसने बोला की अंदर ही छोड़ दो. तो मैंने उसके अंदर ही छोड़ दिया और हम दोनों एक दूसरे की बाहों में लेटे रहे.

पर मेरा मन तो उसकी ३८ की गांड देखकर उसे भी चोदने की सोच रहा था, तो उसने कहा उस दिन से मेरी गांड भी तड़प रही है क्योंकि उस दिन तुम्हारे लंड ने उसे छुआ था. फिर मैंने उसकी गांड पर अपना लंड सेट किया पर उसकी गांड टाइट होने की वजह से अंदर नहीं जा रहा था. फिर मैंने उसकी गांड के छेद के पास तेल लगाया और अपने लंड पर भी लगाया. फिर धीरे से झटका दिया, थोड़ा सा अंदर चला गया मैंने वो चीख पड़ी. मेने उसके मुह पर अपना हाथ रख दिया एक और झटका मारा तो मेरा पूरा अंदर चला गया. पहले तो वह तड़प उठी है फिर मजा लेने लगी.

उसके बाद हमने बहुत बार चुदाई की और उसकी गांड का छेद भी चौड़ा कर दिया, फिर मेरी और उसकी छुट्टियां खत्म हो गई और हम बिजी हो गए अपने अपने काम में..