रिच हाउसवाइफ को रात में 7

हलो दोस्तों मेरा Antarvasna Kamukta नाम विशाल हे और मैं हरयाणा से हु. मैं एक प्लेबॉय लड़का हूँ जिसके लंड की लम्बाई सात इंच की हे, दोस्तों आज मैं आप को अपनी रियल हिंदी सेक्स स्टोरी बताने के लिए आया हूँ. ये बात आज से दस दिन पहले की हे. मेरे एक इमेल आईडी पर एक मेल आया. उस औरत का नाम उषा था और वो एक अकेली हाउसवाइफ थी जिसे अपनी चूत की चुदाई करवानी थी. मैंने उसे रिप्लाय किया और अपने मोबाइल नम्बर को उसे भेज दिया.

रात के करीब दस बजे के करीब उसका कॉल आया. उसकी आवाज एकदम ही स्वीट और थोड़ी सी दबी हुई थी. वो शायद कहीं छिप के मेरे से बात कर रही थी. मैंने उसके बारे में पूछा तो उसने बताया की वो एक हाउसवाइफ हे और उसका पति गवर्नमेंट सर्वेंट हे. उसका पति बंगलोर में पोस्टेड था और उषा यहाँ अपनी सास के साथ रहती थी. मैंने कहा मैं आप की क्या सेवा कर सकता हूँ. तो उसने कहा वही सेवा जो एक औरत को चाहिए होती हे. उसने मुझे बताया की मेरी सासतिन दिन के लिए घर से बहार जा रही हे और मैं तिन दिन तक फुल एन्जॉय करना चाहती हूँ.

मैंने उस से उसका एड्रेस ले लिया और उसको अपने चार्ज भी बता दिए. वो मान गई और फिर मैं उसके बताये हुए पते पर चला गया. मैंने डोरबेल बजाई और दरवाजा उसने ही खोला. जबे मैंने उसको देखा तो देखता ही रह गया. उसकी हाईट करीब छ फिट में एक दो इंच कम थी. उसका फिगर करीब 34 30 36 का होगा.

उसने मुझे अन्दर आने के लिए इशारा किया. मैंने उसके पीछे घर में चला गया. उसका घर बहुत ही बड़ा था. मैं उसके सामने सोफे के ऊपर बैठ गया. उसने मुझे पानी ला के दिया जिसे मैंने पी लिया. उसने पूछा क्या लोगे?मैने कहा आप जो दे देंगी वो ले लूँगा मैं तो. ये सुन के वो हंस पड़ी और बोली मैं चाय या ठन्डे के लिए पूछ रही थी. मैंने कहा मैं भी उसके लिए ही कह रहा था. वो मेरे लिए चाय लाइ.

फिर वो बोली, मैं आती हूँ. और उसने जाते हुए मुझे सामने का बेडरूम दिखा के अन्दर जाने के लिए कहा. मैं चाय खत्म कर के बेडरूम में चला गया. मैं बेड के ऊपर बैठ गया. थोड़ी देर में उषा मस्त सेक्सी ब्लेक साड़ी पहन के बेडरूम में आ गई. वाऊ वो बड़ी ही कमाल की आइटम लग रही थी.

उषा साडी के अन्दर बहुत ही अच्छी लग रही थी. अन्दर आते ही उषा ने दरवाजा बंध कर दिया. मैं भी बेड से उठ के, जब वो दरवाजा बंध कर रही थी तो उसे पीछे से पकड लिया. और मैं उसके बदन पर किस करने लगा. कभी मैं उसके शोल्डर पर तो कभी उसके कान पर अपने होंठो से चूस रहा था. और साथ में मैं उसके बूब्स को भी दबा रहा था. वो भी थोड़ी थोड़ी गरम हो रही थी. मैंने उसको अपनी गोदी में बिठा दिया. अब हम दोनों एक दुसरे को लिप किस करने लगे.

वो भी अब गर्म होने लगी थी. मैंने उसकी साडी के अन्दर हाथ डाल दिया और फिर उसे उतार दिया. फिर मैंने उसके ब्लाउज के बटन भी खोल दिए. उषा मेरे सामने अब सिर्फ ब्रा और पेंटी में ही थी. मैंने खड़े खड़े ही उसकी पेंटी में हाथ डाल दिया. उसकी चूत काफी गर्म थी. मैंने भी अपने कपडे खोल दिए और कुछ देर के अन्दर मैं सिर्फ अपनी अंडरवेर में था. उसका पूरा जिस्म पे किस करने के बाद वो मचलने लगी थी. अब मैंने उसे पूरा नंगा कर दिया.

उषा ने मेरे लंड को पकड़ लिया और बड़े ही प्यार से वो उसे सहलाने लगी. फिर उषा ने मेरा अंडरवेर उतार दिया. मेरा लंड एकदम से बहार आ गया. उसे देखते ही उषा बहोत खुश हो गई और बोली, वाऊ ये कितना बड़ा हे!

मैंने पूछा क्यूँ आप के पति का लंड कितना बड़ा हे? तो बोली मेरे पति का तो एकदम छोटा हे शायद इस से आधा ही हे. मैंने उसे अपनी गोदी में ले लियाऔर फिर उसे उठा के बेड में लिटा दिया. फिर मैंने लिप किस से स्टार्ट किया और किस करते करते निचे की तरफ बढ़ने लगा. फिर मैंने उसके निपल्स को अपने मुहं में दबा लिया और उसे चूसने लगा. वो मदहोश होने लगी थी. उसकी चुन्ची पूरी कडक हो नहीं गई तब तक मैंने उसके निपल्स को चूसा. उसके मुहं से ओह माय गॉड आह्ह्ह आह की आवाजे आ रही थी.

फिर मैंने उसकी टमी यानी के पेट पर किस किया और फिर धीरे से उसकी चूत तक चला गया. चूत पर किस किया तो वो फुल चुदासी हो गई. मैंने उसके क्लाइटोरिस को अपनी जीभ से हिलाया. उसकी चूत में से कामरस का झरना बह निकला.

करीब 10 मिनिट तक उसके चूत के दाने को अपनी जबान से खुजाने के बाद मैंने अब उसे कहा की चलो अब तुम चुसो. उषा अपने घुटनों के ऊपर आ बैठी. और मेरे लौड़े को अपने हाथ में पकड़ के मसलने लगी. फिर इस सेक्सी हाउसवाइफने एकदम मजे से मेरे लंड को अपने मुहं में दबा लिया. वो पुरे लंड को अपने मुहं में लेने के व्यर्थ प्रयास में थी! लेकिन मुझे उसकी हिम्मत देख के अच्छा लगा. मैंने कहा, पूरा नहीं ले पाओगी जानेमन!

वो लंड मुहं से निकाल के बोली, आज नहीं तो कल लेकिन एक दिन मैं उसे अपने मुहं में पूरा ले के ही रहूंगी.

मैं समझ गया की इसे पहली मुलाक़ात में ही लंड भा गया हे और आगे भी वो उसे लेती रहेगी.

अब वो लंड को अपने मुहं से निकाल के कह रही थी कम ओं फक मी! मैं अब और नहीं रुक सकती हूँ. मैंने उसके मुहं से अपने लंड को निकाला और सीधे ही उसकी चूत पर लगा दिया. मैंने उसकी टांगो को उठा के सीधे अपने शोल्डर पर रख दी. और जैसे ही मैंने एक झटका मारा तो लंड उसकी चूत की गहराई में घुस गया. उसकी मुहं से सिसकी निकल गई आह्ह्ह्ह मरररररर गई बाप रे. उसकी आँख से आंसू निकल गए.

शायद उसके पति का लंड सच में बहुत छोटा था और मेरे जैसे बड़े लंड लेने का उसे कोई अनुभव नहीं था. फिर मैं धीरे धीरे उसकी चूत को चोदने लगा. वो भी मेरा साथ दे रही थी और अपनी गांड को हिला हिला के चुद रही थी. उसका भी दर्द कम हो गया और उसे भी बहुत मजा आने लगा था. इसलिए अब मैंने अपने धक्के की स्पीड बढ़ा दी और जोर जोर से उसे ठोकने लगा.

उषा अपनी गांड को हिलाते हुए कह रही थी, आज मेरी चूत आप की हे इसे पूरी तरह से चोदो और अपने लंड की गुलाम बना दो उसे. उसकी बात सुन के मेरा लंड भी उत्तेजित हो गया. वो अपनी गांड हिला के कह रही थी आज मुझे अपनी रंडी बना दो प्लीज़. मेरे चुदाई के झटको से वो दो बार झड़ गई और उसकी चूत के पानी की चिकनाहट मेरे लंड को महसूस हो रही थी.

मेरा भी हो गया और मैंने उसे पूछा तो उसने कहा की अन्दर ही निकाल दो अपना पानी. मैंने जोर जोर के झटके लगाए और उषा की प्यासी चूत के अंदर ही मैं झड़ गया. उसने मुझे कस के अपनी बाहों में भर लिया. फिर हम दोनों साथ में बाथरूम में गए और शावर लिया. उस रात को उषा ने मेरे चार्ज के एक एक पैसे को वसूल कर लिया. पूरी रात को उसे चोद चोद के मेरा लंड सूज गया था और लाल हो गया था.

दोस्तों इस रिच हाउसवाइफ को मैंने ऐसे खुश कर दिया हे की वो अब रेग्युलर मुझे सर्विस के लिए बुलाती हे. सास घर पर होती हे इसलिए वो मेरे साथ होटल पर आती हे अपनी चूत की चुदाई के लिए. मुझे वो एक्स्ट्रा पैसे भी देती हे अपनी सर्विस के रेग्युलर चार्ज के ऊपर!