शर्त के चक्कर में चुद गई

शर्त के चक्कर में चुद गई Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai

हाय फ्रेंड्स मेरा नाम विपुल हे में कल्याण से हूँ. अब ज्यादा टाइम नहीं वेस्ट करते हुए स्टोरी पे आता हूँ. मेरी हाईट ५’९ फीट हे सावले रंग का हूँ. मेरा लंड ८’ इंच लम्बा और २ इंच मोटा हे. अब स्टोरी पे आता हूँ. जब में अ८ साल का था तब की बात हे. समर वेकेसन था इसलिए में और मेरी बाहें गाऊ में गए थे. गाऊ में पहोंच ने के दुसरे दिन में और मेरा भाई घूम रहे थे. उतने में उसकी गिर्ल्फ्रेंड आ गयी और वो दोनों बाते करने लगे और में साइड में खड़ा था थोड़ी देर बाद उनकी बात ख़तम हुई और वो आके बोला तू भी कोई गर्लफ्रेंड पता ले.

तो मेने उसे बोला कल्याण में हे वो संभालाती नहीं और एक पता के क्या मर जाऊ… तो वो बोला तेरी गांड में दम नहीं हे बोलना सीधे सीधे. उतने में मेरी बुआ की लडकी का कॉल मेरे को आया. जो की मेरी ही उम्र की थी. और पूछा दादाजी घर पर हे क्या…? उसने कहा हां हे कुछ काम हे क्या..? वो उसे दादाजी को फोन देने को कहा और वो देने चला गया और वो वापस आकर मुझे बोला भाई अपनी बुआ की लड़की को पता के दिखा.

तो में बोला नहीं यार तो वो बोला गांड में दम हे क्या. तेरी ? तो में बोला नहीं हे. मेरे पास दम बस फिर वो मुझे चिढाने लगा और मुझे गुस्सा आया तो में उसे बोला की चल पटा के देखाया तो क्या देगा..? तो वो बोला जो तुजे चाहिए वो तो में बोला में जब तक वापस जाऊँगा उस दिन तक मेरी बिअर का पैसा तू देगा. नहीं पटा सका तो में पैसा दूंगा. तो वो बोला चल ठीक हे. फिर शाम ६;३० बजे थे हमें माने खाना खाने को बुला लिया.

और खाना खाने के बाद हम बाते करने लगे थे उतने में हमारे बुआ की लड़की आ गयी. सोरी फ्रेंड्स में उसका नाम और फिगर बताना भूल गया. उसका नाम ज्योति हे और फिगर ३०-२६-२९ के आस पास होगा. रंग गोरा वो आई और भाई बोला पिछले एक मंथ यहाँ पर सोने को आती हे बोला अपनी बेट याद हे ना तो में बोला याद हे भाई. तू सिर्फ पैसा जमा करने लग जा. ज्योति ने अपना बिस्तर डाल दिया और सोने लगी ८ बज चुके थे. और हमें भी नींद आने लगी.

तो हमने भी अपना बिस्तर उसकी बाजू में डाल दिया और हम सोने लगे और में ज्योति के साइड सोया था. भाई सो गए थे. और में सोच रहा था की केसे ज्योति को पटाया जाए उतने में ज्योति ने करवट बदल कर मेरे तरफ कर ली और मेरी नजर उसके बूब्स पर गयी क्या दिख रहे थे और मेरा लंड खड़ा हो गया और मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ तो मेने उसके बूब्स पे हाथ रख दिया और उसके बूब्स को सहलाने लगा. मुझे लगा वो गहरी नींद में हे पर वो बस सोने का नाटक कर रही थी.और में उसके बूब्स सहलाते सहलाते कब सो गया पता ही नहीं चला.

और अगले दिन वो आई तो मुझे देख कर हलकी सी स्माइल दे कर चली गयी. और फिर वो रात को वापस आई तो फिर मेने उसके बूब्स पर हाथ रख दिए. धीरे धीरे दबाने लगा तो वो एक दम से हिलने लगी तो में डर गया के मारे मेने हाथ नहीं हटाया तो वो थोडा हिली पर मेरा हाथ नहीं हटाया. बल्कि उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने टॉप में डाल दिया.

मुझे एसा लगा की में मानो सपना देख रहा हूँ. और मुझे ज्योति से ग्रीन सिग्नल मिल गया था. तो मेने थोड़ी और हिम्मत कर के उसके बूब्स जोर से दबाने लगा और वो सिस्कारियां भरने लगी थी शायद में बहोत जोर से दबा रहा था. वो उठी और मेरे कान में धीरे से बोली जरा धीरे से दबाओ दर्द हो रहा हे. तो मेने कहा ठीक हे फिर मेने धीरे से दबाना सुरु किया पर अब मुझे कंट्रोल नहीं हो रहा था तो मेने उसे किस करना चालू कर दिया. तो वो बोली मत करो कोई देख लेगा तो..? मेने एक ब्लेंकेट ली और दोनों पर ओढ़ ली. और किसिंग करने लगे. और में उसका टॉप उपर करके दबाने लगा. रात के करीब २ बज गए थे. और मुझे नींद आने लगी तो मेने उसे कहा अपना टॉप निचे करलो मुझे नींद आ रही हे तो उसने अपना टॉप निचे कर लिया और एक दुसरे को गुड नाईट कह कर सो गए. सुबहे करीब १० बजे वो आकर मुझे उठाने लगी. और वो बोली की कोई १० बजे तक कौन सोता हे भला.

तो में बोला कोई सोता हो या न हो पर में तो हर रोज १० बजे तक ही सोता हूँ. और मेने उसे पूछा की रात को मज़ा आया क्या…? तो वो बोली कुछ मत बोलो कोई सुन लेगा तो वाट लग जायेगी. तो में बोला कुछ नहीं होगा आप टेंसन मत लो. और वो पूरा दिन सोचते सोचते केसे निकल गया मुझे पता नहीं चला और रात को सन के सोने के बाद मेने उसे उठाया और अपने कमरे में ले गया. गर्मी होने की वजह से घरमे कोई नहीं सोता था.

वह जाकर मेने उसे कास कर पकड़ लिया. और किस करने लगा और साथ ही बूब्स भी दबाने लगा. तो वो बोली आपको किस करना अच्छा लगता हे क्या..? तो मेने उसे सीधा बोला चोदना भी अच्छा लगता हे. चोदने दोगी क्या ? तो वो शर्मा गयी और फिर मेने उसे पूरी तरह नंगा कर दिया. पर वो कुछ नही बोली और में अपने घुटनों के बल बेठ गया और उसकी चूत चाटने लगा तो वो मेरा सर पकड़ अपनी चूत में दबाने लगी. और करीब १०-१२ मिनट बाद वो झड गयी. और उसका सारा पानी में पि गया और फिर मेने उसे कहा अब तुम्हारी बारी हे.

तो वो बोली पेंट तो निकालो तो में बोला लंड किसका हे और चुसना किसे हे तुम्हे तो तुम्हारा काम खुद ही किया करो. तो उसने मेरे कपडे उतार कर मुझे पूरा नंगा कर दिया. और लंड चूसने लगी. में १० मिनट बाद झड गया और मेरा सारा माल वो पि गयी. तो फिर मेने उसे बेड पे लिटाया और चोदना स्टार्ट किया. तो २-३ बार मेरा लंड फिसल गया तो फिर में तेल लाया और मेरे लंड को लगाया और उसकी चूत को भी. फिर धीरे से मेरा लंड घुसाया लगभग एक ही धक्के में मेरा आधा लंड उसकी चूत में समां गया.

वो चिल्लाने वाली थी इतने में मेने उसके मुह पर हाथ रख दिया. और वो बोलने लगी दर्द हो रहा हे. बहार निकालो में बोला थोड़ी देर दर्द होगा बाद में मज़ा आएगा. और मेने एक और धक्का लगाया और ब्लीडिंग होने लगी और वो बेहोस हो गयी. और में डर गया. मुझे लगा की इसे क्या हो गया. लेकिन फिर उसने मुझे धीरे से कहा की बहुत दर्द हो रहा हैं.

मेने कहा, डार्लिंग धीरे धीरे करूँगा कुछ नहीं होगा रुको.

मेने दो मिनिट तक अपने लोडे को जरा भी नहीं हिलाया. फीर मैं धीरे से अपना लोडा चूत के अन्दर बहार करने लगा. उसका दर्द कम हो गया था और उसे शांति थी हो गई थी. अब वो कराह नहीं रही थी और मुझे सपोर्ट कर रही थी. मैंने उसके बूब्स पकडे और उसकी चूत को धीरे धीरे मसलने लगा.

वो आह आह कर रही थी और में उसकी चूत को पम्प कर रहा था.

१० मिनिट की चुदाई के बाद जब मेरा वीर्य उसकी चूत में निकला तो मुझे बड़ी शान्ति हुई…!