मैडम से सीखी चुदाइ—2

गतान्क से आगे……
संजू उपर से उसकी चुचियों को दबाने लगा, साथ अपनी जीभ उसके मुँह में डाल कर चूसने लगा. Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai रीता संजू के मूह में अपनी जीभ देने लगी .ओह माइ भैया डार्लिंग ! आइ लव यू ! बोल रही थी संजू ने उसके चुतड़ों को पकड़ा और अपने पास खींच कर उसकी जीभ को चूसने
लगा अब संजू उसकी जीभ को चुसते हुए एक हाथ से चूतड़ सहला रहा था जबकि दूसरा हाथ उसकी चुचियों से खेल रहा था.

रीता की गर्मी का अहसास संजू को मिल गया था. उसने संजू को अपने से लिपटा लिया. अरे… बदमास , क्या ऐसे ही करोगे… कपड़े तो उतार दो…चुदाई का मज़ा नहीं लोगे क्या…” मैने उन्हे कहा.
“नहीं …नहीं … चुदाई नहीं… बस ऐसे ही उपर से…”रीता ने कहा तो मुझे अस्चर्य हुआ.
मेने कहा- “तब क्या मज़ा आएगा… मुझे पता है कि तुम दोनों ही नये हो इस खेल में ! पर चिंता मत करो, मैं सिखा देती हूँ, क्यों संजू…”संजू ने मेरा साथ दिया और हम दोनो ने मिल कर रीता को नंगी कर दिया.

संजू ने भी अपने कपड़े उतार दिए. मेरा दिल फिर से धक धक करने लगा. इतना मोटा और लंबा लंड…मुझे यकीन नहीं हो रहा था…. रीता के मूह से फिर निकला उउऊइईईई ईई.मा… ये तो गधे का ही लॉडा लगता है मेरी चूत का तो बुरा हाल कर देगा” उसने लंड को दोनो हाथो से थाम कर अपने कोमल तपते होंठ संजू के गरम सूपदे पर रख दिए ,बस फिर उसने आनन फानन में

संजू का कुवरा लॉडा मूह में भर लिया.सूपड़ा मोटा होने की वज़हा से बड़ी मुस्किल से उसके मूह में जा रहा था. रीता अपनी जीभ लपलपा कर संजू के लॉड को चूसे जा रही थी. उस समय उसका सूपड़ा बहुत फूला हुया था और चमक रहा था. रीता ने झुक कर पूरा मूह खोल कर बड़ी मुस्किल से लॉडा अपने मूह में गले की गहराई तक ले लिया और मस्ती से चूसना सुरू कर दिया. मेरा जी धक से रहा गया.

मेरा मन वहाँ से हटने को नहीं कर रहा था. उन्हें देख कर मैने भी अपना गाउन उतार दिया और नंगी हो गयी. रीता के होंटो की ‘पुच-पुच’ सुन कर और संजू का जवान लंड देख कर मेरी चूत में पानी उतरने लगा. रीता भी जवानी मे कदम रख चुकी थी… क्या चूत थी, कसी हुई उसकी उभरी हुई बुर किसी फारिस्ते का भी ईमान खराब करदे.उसकी नाभि के नीचे का हिस्सा(पेडू) थोड़ा सा उभरा हुआ और उसके नीचे डबल रोटी की तरह गुलाबी रंग की रोम

विहीन गुलाबी और सफेद पनीर जैसी फूली हुई चूत पर एक काला तिल एकदम कोरी फ्रेश चूत. चूत पूरी तरह से कुँवारी थी, उसकी बिना बालों की एकदम चिकनी चूत थी.उस की चूत का लहसुन मोटा और संजू के लंड को देख कर तन गया था, लहसुन एक इंच लंबा होगा. मोटे क्लाइटॉरिस का सूपड़ा चेरी जैसा था और कम रस से चमका रहा था.अब मेने रीता के क्लिट पे उंगली रख कर फिर पढ़ाना सुरू कर दिया-“यह महिला के लिए सेक्स के जादुई आनंद का बटन है.

सिस्निका बेसिकली पुरुष के सिसिन की ही तरह है लेकिन आकार में काफ़ी छ्होटी होती है. यदि इसे सही तरीके से सहलाया जाता है तो यह महिला को अत्यधिक आनंद व उत्तेजना प्रदान करती है. महिला के सरीर में सिस्निका ही ऐसी इकलौती इंद्री है जिसका एक मात्र कार्य सेक्स-आनंद देना है. यह एक सेंटीमीटर से लेकर एक इंच तक लंबा हो सकता है .इसका हेड फूले हुए छ्होले की तरह होता है
तथा योनि द्वार के उपर होता है.”

रीता के जवान जिस्म को देख कर कोई भी पागल हो सकता था. दोनों भाई-बेहन एक दूसरे की चूत और लंड को देख रहे थे !”प्लीज़ भैया , मुझे शरम आ रही है.” दोनो भाई-बेहन एक दूसरे से लिपट गये और फिर से दोनों के होंठ एक दूसरे से ऐसे चिपक गये मानो अब कभी भी अलग ना होने की कसम खा ली हो. फिर संजू ने उसे बिस्तर पर पटक दिया और उसके उपर चढ़ कर बेतहासा
चूमने लगा दोनो का जोश देखते ही बनता था दोनों बेहन भाई एक दूसरे मे

समाने की पूरी कॉसिश कर रहे थे पर रीता अपनी चूत से उसके लंड को दूर रख रही थी. संजू ने उसकी टाँगों को अपने कंधों पर रख लिया और जैसे ही अपने लंड का सूपड़ा उसकी चूत पर दबाया तो उसने चूत को झटका दे कर हटा दिया. संजू ने उसकी गंद के नीचे एक तकिया लगाया जिस से उसकी चूत उपर आ गयी, उसकी टाँगें चौड़ी करके उसके उपर चढ़ कर उसकी योनि पर अपने मूह को रख दिया. संजू ने अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर कर दी और उसकी चूत को जीभ से चोदने लगा.

चूत को जीभ से चाटने लगा वो चूत को पूरी अंदर तक चॅट रहा था, कभी कभी उसकी जीभ उसके चूत के मटर -दाने को भी चट लेती थी या फिर अपने दाँतों में लेकर धीरे धीरे से काट लेता था. फिर संजू ने उसकी एक इंच लंबी चूत की लहसुन को होठों में ले लिया और मस्ती से चूसना सुरू करा दिया अपनी चूत चटाई से रीता बिल्कुल पागल हो गयी थी और पूरी तरह से मस्ती
में आ गई थी

उसके मुँह से कामुक सिसकियाँ निकलने लगी.”आहह उईईए मारगईए आहह ओर थोड़ा ओर चॅटो.” अपनी चूत चटवाते हुए वह खुद अपनी गांद उच्छाल-उच्छाल कर उसकी जीभ को अपने योनि रस का स्वाद देने लगी और बड़बड़ाने लगी “आ आ आहा हहा हहा मेरे राजा भैया, बहुत मज़ा आ रहा है. चूसो, खूब ज़ोर से चूसो ओ यू ओ ओये ओये ओहा हहा यू उहा. कम ओन्न और ज़ोर से.
.

रीता उसका सर पकड़ कर उसके मूह में अपनी चूत को चूतड़ उछाल उछाल कर रगड़ रही थी. रीता चूत चटाई से बिल्कुल पागल हो गयी और संजू के मूह मे ही झाड़ गयी. रीता बड़बड़ाने लगी- और चूसो ओये ओये हाए और ज़ोर से, हाँ ऐसे ही एएए ही चूसो बहुत मज़ा आ रहा है भाईया ! मेरा कम होने वाला है और और ज़ोर से यसससा ओ यॅज़ ई ई ई आ उई मा ..मे.. गयी…
गई…उई मेरी मा,

रीता की चूत ने पानी छ्चोड़ दिया जिसे संजू अपनी जीभ से चाटने लगा.झड़ने के बाद चूत ऐसे लग रही थी जैसे ताज़ा गुलाब ऑन्स मे भीगा हो. चूत को पूरी तरह से चट कर संजू खड़ा हो गया और अपने कपड़े उतार दिए. संजू का जवान मोटा लंड तन कर फटने जैसा हो रहा था
फिर अचनाका 69 पोज़ीसान में एक दूसरे के साथ मुख मैथुन करने लगे,रीता ने संजू का लॉडा अपने मूह में ले लिया थोड़ी देर बाद मे अपना लंड उसके मुँह में

पेल दिया और उसे चूसने को बोला और वह ज़ोर-ज़ोर से संजू के लंड को मुँह में अंदर-बाहर कर रही थी.उसकी लंड-चुसाइ से संजू पूरी तरह मस्त हो गया था.और आगे पिछे करते हुए उसके मुँह को चोदने लगा. उसके मुँह से घुटि घुटि आवाज़ें आ रही थी. लेकिन लंड का आकार बड़ा होने के कारण उसको मुँह में लेने में कठिनाई हो रही थी. वो अपनी जीभ से संजू के जवान

लंड का सूपड़ा रसगुल्ले की तरह चट रही थी.बीच बीच में उसे हलके से काट भी लेती थी. ये….ये….फदक रहा है भाई, टाइट हो गया है….आपका माल आया….हया रे ….ये आया !”उसे हाथ में लेकर जीभ से चाटने लगी. रीता, मेरा निकाला, आहा, ये उहा आया !” निकाल दो भैया, निकालो हया रे…. आ गया….”संजू की अमृत धारा छूट पड़ी, पिचकारी तेज़ी से बाहर आई और उसकी धार रीता

के हलक में ही गिरने लगी, जिसे वाहा अमृत-रस समझ कर सारा पी गयी,और बड़े चाव से गटक लिया पिचकारी तेज़ी से गिरी, और झटके मार के निकलती ही गयी. इतना वीर्य निकला कि उसका पूरा हलक भर गया जिसे वह पी गयी. वो संजू के लंड को अब धीरे धीरे निचोड़ रही थी. दूध दुहने की तरह उसका वीर्य निकाल रही थी, बूँद बूँद करके सारा वीर्य बाहर निकाल लिया. फिर जीभ निकाल कर लंड का सारा वीर्य पूरी तरह से जीभ से चट लिया और जीभ निकाल कर होठों पर लगा वीर्य भी

चट कर मुँह साफ कर लिया ये सब देख कर मेरी वासना बढ़ती जा रही थी. मैने अपनी चूत में दो अँगुलिया डाल ली और अपनी चूत चोदने लगी. मेरे मुख से सिसकारी निकल पड़ी अब मैने सोचा की पहले इन्हें निपटा दूं. मैं उठी और दोनों को सहलाने लगी फिर मेने रीता के चूत का दाना धीरे धीरे मलना सुरू किया. रीता को और मस्ती चढ़ने लगी. मैं घिसती रही…मलति रही… इतने में रीता झड़ने लगी… मैने हाथ हटा लिया… उसकी चूत में से पानी आ रहा था…

संजू ने रीता की दोनों टाँगों को अपने कंधों पर टीकाया और इसी दौरान संजू का लंड मैने रीता की चूत पर रख दिया. उसने रीता की टाँगों को अपने कंधो पर रखा और केले के पेड़ की तरह चिकनी जंघें चौड़ा करके पिछे की ओर कर दिया और अपने लंड का सूपड़ा रीता की चूत परा रख कर दबाव डाला पर वो तो बिल्कुल टाइट थी संजू ने उसकी योनि रस के साथ ही अपना थूक लगाया और दोबारा ट्राइ किया

रीता चिहुनक उठी, लंड को उसकी चूत के मुँह पर रखा कर धक्का लगाया,सूपड़ा योनि के अंदर था. लोहे जैसा सखत लॉडा एक ही झटके में आधा धँस गया. रीता के मूह से उफ की
आवाज़ निकली पर अपने होठों को भींच कर नीचे से जवाबी धक्का दिया और संजू का आधा लंड उसकी बेहन की चूत में जड़ तक समा गया.”धीरे थोड़ा धीरे धीरे आ आ अहहहहा उई मा मर जाउन्गि मे उई री मेरी मा !”

संजू तो जोश में था ही… उसने एक जोरदार घस्सा मारा , चूत से चारड़ चारड़ की आवाज़ के बाद ठक की आवाज़ हुई और भाई के गधे जैसे लंड ने बेहन की कुँवारी और फ्रेश चूत को फाड़ दिया और पूरा लंड रीता की चूत में उतर गया…बहुत अंदर लंड का सूपड़ा कलेजे को गुदगुदा रहा था . रीता तड़फ़ उठी…”अरे आ आ आ…उ उई …प्लीज़ मुझे छ्चोड़ दीजिए भैया. भैया ये क्या… हटो…हटो… उसने जल्दी से उसका उफनता हुवा लंड चूत से निकाल दिया…

रीता को ऐसे लगा जैसे उसकी चूत से बच्चा निकला हो. संजू भी तड़फ़ उठा …… उसे तो अब चूत चाहिए थी… रीता अलग हट कर उठ गयी. देखो…में…मैने मना किया था…तब भी इसने क्या कर डाला…मेरी फाड़ दी, खून निकल रहा है” कोई बात नहीं रीता…ये तो एक दिन फॅटनी ही थी..ला मैं इसे संभालती हूँ……”मैं जल्दी से सीधी लेट गयी और टाँगे चौड़ी कर दी, मेरी गंद बहुत मोटी है,

इसलिए मेरी चूत उपर उठ गयी. संजू मेरी टाँगों के बीच आ गया. जैसे ही उसने अपना मोटा सूपड़ा मेरी चूत पे लगाया, मुझे लगा जैसे अंगारा रख दिया हो. मैने अपनी दोनो टाँगे उसकी कमर पे लपेट दी और ज़ोर से अपनी गांद उपर उठा दी, पूरा सूपड़ा अंदर चला गया. संजू ने 3-4 जोरदार झटके मारे आधा लंड अंदर घुस गया. मैं बोली, संजू तुम्हारा लंड बहुत मोटा है, कसा कसा सा लग रहा है, ऐसा लग रहा है जैसे मे पहली बार चुद रही हूँ, बहुत मज़ा आ रहा है हाए

संजू पूरा डाल के चोदो. संजू ने ज़ोर से धक्का मारा, पूरे का पूरा 10 इंच का मोटा लंड मेरी चूत में समा गया. इतना टाइट कि लग रहा था कि ये बना ही मेरी चूत के लिए है. संजू का गधे जैसा लॉडा वहाँ वहाँ भी ठोकर मार रहा था जहाँ आज तक कोई लॉडा नही पहुँचा था.संजू धीरे धीरे धक्के मारने लगा, मैं स्वर्ग की सैर करने लगी. बहुत मज़ा आने लगा. अहहहहा उयू अहहहहहहा ममामममममा सीइईयायेया चोदो अपने मोटे लंड से मुझे बहुत मज़ा आ रहा है,

मैं अपनी गांद उपर उच्छालाने लगी जिस से की हर बार पूरा 10 इंच का लंड अंदर जाए, संजू ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा. मे पागल सी हो गयी.एक-एक धक्के के साथ मे जैसे जन्नत तक जाकर आ रही थी. जब बहुत मज़े आने लगे तो मैने अपनी गंद को थोड़ा और चौड़ा करके पिछे की ओर कर लिया संजू के टेस्ट्स मेरी गंद से टकरा रहे थे मैं मुख से बक बक करने लगी, और सिसकियाँ ले रही थी ओर ज़ोर ज़ोर से चोद

चोद चोद फक मी .. उफ़ अफ क्या लंड है. ज़ोर से अहहहहहा ममामममा सी..ई.ई यस यस चोद चोद ज़ोर लगा, तेरे मूसल जैसे लंड की अकड़ ढीली कर दूँगी, अहहहा यस अहहहा बहुत मज़ा आ रहा है . ऐसा मज़ा तो मुझे मेरे पति ने कभी नहीं दिया बस बस संजू मे जाने वाली हूँ बस गयी बस बस उई मेयेया गयी मैं गयी, कहते -2 मेरा सारा सरीर अकड़ गया और वो भी मेरे साथ साथ झड़ने लगा.संजू ने अपनी स्पीड बढ़ा दी. फूल स्पीड पे मुझे चोदने लगा. फिर उसने मुझे आधे
घंटे तक जम के चोदा

फिर उसने गरमा गरम ढेर सारा वीर्य मेरी चूत में उंधेल दिया. मेरी आँखें बंद हो गयी अहहहा अहहहहा मामा सीईयाया अहहहहहहहा मे उसकी छाती से ज़ोर से चिपक गयी. मैने दूसरी बार संजू को दबोच लिया और उसे अपने नीचे दबा लिया… उसके खड़े लंड पर मैने अपनी चूत रख कर दबा दी… आ अहह्ा …लंड मेरी चिकनी चूत मे धँसाता चला गया… संजू ने भी अपने चूतड़ उपर की ओर उठा दिए… और उसका लंड पहले झटके में ही जड़ तक बैठ गया.
क्रमशः………