मैडम से सीखी चुदाइ—1

दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा आपके लिए एक ओर मस्त कहानी लेकर हाजिर हूँ Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai
मैं एक स्कूल में अध्यापिका हूँ ये मात्र 12थ कक्षा तक का स्कूल है शाम को अक्सर मे नदी-तालाब के किनारे घूमने निकल जाती हूँ ऐसे ही एक दिन मे तालाब के किनारे घूम रही रही थी. 9थ कक्षा की क्षात्रा और 11थ का एक क्षात्र मिल गये ये दूसरे सेक्षन में थे मैने उनसे उनका नाम पुच्हाअ तो उन्होंने अपने नाम रीता और संजू बताए. रीता ने स्कूल ड्रेस यानी स्कर्ट और टॉप ही पहने थे, लेकिना उसकी स्कर्ट कुच्छ

छोटी थी इसलिए जब वो बैठी तो मुझे उसके गोरी टाँगों के साथ साथ उसकी जंघें भी दिखाई दे रही थी. जिसमें वो बहुत ही सुंदर और सेक्सी लग रही थी.गदराया बदन, शोख, चंचल और कमसिन, कंधों तक कटे बाल, सुतवाँ नाक, पतले पतले गुलाबी होंठ जैसे सहद से भारी दो पंखुड़ियाँ, सुरहिदार गर्दन, बिल्लोरी आँखें, छ्होटे छ्होटे नींबू जो अब अमरूद बनते जा रहे हैं पतली कमर, चिकनी चिकनी बाहें और केले के पेड़ की तरह चिकनी जंघें.

सबसे कमाल की चीज़ तो उसके गदराए कहर बरपाने वाले नितंभ थे. या अल्लाहा वह जवानी के दहलीज पर कदम रख चुकी थी.चुचियाँ एकदम गोल और बड़े नींबू के साइज़ की थी,एकदम टाइट और कठोर थी . नरम गद्देदार चूतदों पर भी मास आ जाने से गदराने लगे थे. रीता का चेहरा और होंठ तो इतने रसीले थे की कोई भी देखे तो किस करने का मन करने लगे, बड़ी-बड़ी कजरारी आँखें, चिकनी जंघें

संगे मरमर सा बदन, कुल मिलाकर अल्हड़ जवानी में कदम रखने को बिल्कुल तैयार.उसने उस समय जो स्कर्ट पहन रखी थी वो इतनी टाइट थी की उसकी संतरे जैसी चुचि और ठोस गदराए चूतदों को सेक्सी बना रही थी.पेंटी इतनी छ्होटी थी की झुकने पर पूरे चूतड़ दिख
जाते थे जैसे चुदवाने के लिए ही बने हों उसने मुझे कहा कि “मेडम हम दोनों जीव विज्ञान विषय में आपसे ट्यूशन

पढ़ना चाहते हैं “मैने उसे कहा की कल घर आ जाना, मैं बता दूँगी. संजू और रीता दूसरे दिन घर पर आ गये. मैं च्छूप गई और देखा कि दोनो एक दूसरे की आँखो में आँखे डाल कर प्यार से देख रहे थे ….हँसी मज़ाक भी कर रहे थे..लगता था की वे बहुत क्लोज़ थे. संजू खेल-खेल मे उसके बाल पिछे से पकड़ लेता कभी कमर को पकड़ कर भींच लेता, वो हसती रहती, कभी संजू कहता कि रीता तुम आज बहुत सेक्सी लग रही हो. वो शरम से लाल हो जाती, कहती
बदमाश कहीं का, छ्चोड़ मुझे ,मेडम को पता चल गया तो ?

मौका मिलते ही संजू ने हौले से रीता के नितंभो पर चिकोटी काट ली और उसकी गोल
छ्होटे-छ्होटे चुचियों को दबा दिया. रीता ने जीभ निकाल कर उसे चिढ़ा दिया
और उसे मारने को दौड़ी.उसने कहा “चल बेसर्म ,तू तो हर समय तैयार रहता है
मेडम ने देख लिया तो” और उसने प्यार से उसकी नाक उमेथ दी और उसके गालों
पर किस किया..

मुझे लगा की दाल में कुच्छ काला है और इनकी प्राब्लम कुच्छ और है. मेने बाहर
आकर पुछा- “जीव विज्ञान के किस टॉपिक पर पढ़ना चाहते हो “दर-असल हमने जनन अंगों (जीव विज्ञान) के विषय में आपसे कुच्छ पुछना था…”रीता ये संजू तुम्हारा दोस्त है क्या…?” नही मेम … प्लीज़ आप नाराज़ ना होना.”मेने कहा की रीता डरो मत, सच सच कहा दो, मे कुच्छ नहीं कहूँगी ” या कुच्छ और बात है ?… कह दो…मे भी तुम्हारी उमर से गुज़री हूँ” मैने अंधेरे में तीर छ्चोड़ा. पर सही लगा,

मेम, हम दोनों भाई-बेहन हैं , और कहा प्लीज़ में आप हमारी मा से मत कहना कि हम जनन अंगों के विषय में आपसे पुच्छ रहे थे ” वो कुच्छ शरमाती सी बोली. मे एकदम भाँप गई की मामला प्यार का है मैने ने संजू के गालों पर एक चिकोटी काटी और उसके चुतड़ों पर हल्की सी छपत जमा कर कहा ” शैतान कहीं के छुप छुप के, फ्री मज़ा ले रहा है”.
सॉरी मेडम मे अपने पर काबू नहीं रख पाया “.

हम… में वो… हम तो आपके पास इसलिए आए थे कि हम दोनों ज़्यादा से ज़्यादा समय साथ रहे !… प्लीज़ मेम , नाराज़ मत होना…” उसके चेहरे से लगा कि वो मुझसे विनती कर रही हैं. पर ये पढ़ने की जगह है, कोई मिलन की जगह नहीं है ? मेम वो … घर में मम्मी-पापा को पता लग गया तो ? मेरी सहेली आएशा ने बताया था कि आप हमारी मदद कर देंगीं……”
ओह तो ये बात है…लगता है के तुम अपने भाई से बहुत प्यार करती हो, कोई बात
नहीं..

आएशा का भी अपने भाई से एक बार यहीं मिलन हुआ था तो मैने भी उसी के भाई से चुदवा लिया था. मेरे मन में भी एक हुक सी उठी… ये दोनो बहन भाई अपनी जिस्म की प्यास बुझाने आए हैंकयों ना मैं भी इस बात का फ़ायदा उठाओ. संजू एकदम ही डर गया मेने कहा डरो मत देख मे ये बात तुम्हारे मम्मी-पापा को नहीं बताउन्गि पर एक शर्त है.

रीता ने कहा कौन सी शर्त ? तुम्हरा तो मिलन हो जाएगा … पर मेरा क्या फ़ायदा होगा इसमें…” मैने तिरछि निगाहों से उसे परखा. मेने कहा “मेरी भी कुच्छ इच्छाएँ हैं , संजू को मेरी भी …..लेनी होगी, यह बात हमारे बीच ही रहेगी …..टॉप सीक्रेट.संजू बोल पड़ा ” क्या लेनी होगी मेम ? रीता ने कहा ” बुद्धू ,वही जो तू मेरी लेने को बेचैन रहता है और मौका
मिलते ही चड्धि के ऊपेर से मुथि मे भर लेता है. मेडम आपकी शरत मुझे
मालूम है.

आएशा ने मुझे सब बता दिया है… इसीलिए तो मैने आपसे सब कह दिया … आपकी सारी शर्तें हमे मंजूर हैं…” उसने अपना सर झुकाए सारी बातें मान ली.तो ध्यान रहे…शर्त… कल दिन को स्कूल के बाद सीधे ही यहाँ आ जाना…” मैने उसे मुस्कुराते हुए कहा. रीता ख़ुसी से उच्छल पड़ी… मैने रीता को चूम लिया…मैने कहा-“संजू तुम भी आओ ज़रा…”मैने संजू के होंठो पर एक गहरा चुम्मा ले लिया… मेरे बदन में तरावट आने लगी…

संजू ने भी कहा “मेडम आप तो इतनी सुंदर हैं बिल्कुल रीमा लागू जैसी परी ” और जोश में मुझे बाहों मे लेकर किस कर लिया और मेरे चौड़े नितंभो पर दोनो हाथ रख कर ज़ोर से भीच दिया.मैं समझ गयी के लड़का काम का है.मैने उनकी मा से दोस्ती कर ली और मेरे से एक्सट्रा पढ़ाई करवाने की बात कर ली बिना कोई ट्यूशन फीस के. बस उनकी मा को क्या चाहिए था. “कितने बजे आना

है मेडम?” वो मुस्करा करा बोली “स्कूल टाइम के बाद आना. उनकी मा ने मुझसे कहा कि मेम , दोनों के एग्ज़ॅम सुरू होने वाले हैं, वो पढ़ाई में कमजोर हैं, उन्हे थोड़ा टाइम निकाल कर पढ़ा दिया करो. उनकी मा ने दोनों भाई-बेहन को मेरे घर भेजना कबूल कर लिया और मैने अकेले में उनको पढ़ने के लिए सहमति देदी.दूसरे दिन

संजू और रीता स्कूल में मेरे चक्कर लगाते रहे… मैं उन्हें मीठी सी मुस्कान दे कर उनका हौंसला बढ़ाती रही… सच तो ये था कि मेरी चूत में बी कुलबुलाहट मचने लग गई थी… सोच सोच कर ही रोमांचित हो रही थी कि 18 साल के जवान लड़के के लंड से चुदवाने को मिलेगा.
मैने स्कूल से आते ही एसी चला दिया. लंच करके मे आराम करने लगी. मे जाने कब
सो गयी.

सपने मे रीता ने मेरे हाथ पकड़ लिए और संजू ने मुझे उल्टी लेटा कर मेरे चौड़े नितंभो में अपना लंड डाल कर मेरी गांद में घुसाने लगा. पर उसका लॉडा गांद के छेद में घुस ही नही रहा था. वो बहुत ज़ोर लगा रहा था… मेरी गांद में इस ज़ोर लगाने से गुदगुदी लगने लगी थी. रीता चीख उठी… भैया ! मार दे मेम की गांद …छ्चोड़ना मत… उसकी चीख से मैं अचानक उठ बैठी… ओहा…… मे सपना देखने लगी थी.

वास्तव में दरवाजे पर बेल बज रही थी…दिन को करीब 3 बजे थे…वो दोनो आ गये थे. मैने अपना मूह धोया और हम तीनों कमरे में ही बैठ कर थोड़ी देर तक बातें करते रहे. उन दोनों की बैचेनी देखते ही बनती थी में… मुझे संजू से कुच्छ बातें करनी है…… हाँ हाँ… ज़रूर करो… पर फ़िजूल की बातें कम करना… और…” मैने मज़ाक किया. और रीता को बेड रूम में ले गई और सब बता दिया. संजू को भी मैं अंदर आने का इशारा किया.

रीता तो बेड रूम देखते ही खुश हो गयी…बिल्कुल सुहागरात की सेज तरह सज़ा रखा था.रीता नयी नवेली दुल्हन की तरह बिस्तर पर बैठ गयी अब मेने पढ़ाना सुरू कर दिया- चलो अब ध्यान से सुनो.. और मैं उनको प्रजनन के बारे मे समझाने लगी…” देखो – जीवा दो प्रकार के होते हैं- नर वा मादा ,मैं सबसे पहले नर के जनन अंगों के बारे में बताउन्गि. नर का जनन अंग 3 से 4
इंच लंबा तथा 1 से 2.5 इंच मोटा हो सकता है जिसे लिंग, लंड, लॉडा, मूसल, लोल्ला, पेलड आदि नामों से जानते हैं.

रीता ने पुछा- क्या इसकी कोई निस्चित लम्भाई नहीं होती? मेने कहा,”नहीं ! कई मर्दों के लंड तो एक एक फुट तक लंबे और कलाई जितने मोटे हो जाते हैं, रीता को प्रजनन सिखाते हुए मेने ब्लॅक बोर्ड पर पेनिस( लंड ) का डाइयग्रॅम बनाया… नॉर्मल लंड का नहीं बल्कि सीधे तने हुए मशरूम जैसे सूपदे वाले मोटे लंड का… इसको बनाते हुए मेने अपनी सीखी हुई तमाम चित्रकला ही प्रदर्शित कर दी…पर

रीता का ध्यान उसकी कला पर नहीं… संजू की पेंट के उभार पर टिकी हुई थी… संजू ने भी कोई कोशिस नहीं कि उसको च्छुपाने की…मेने एक्सप्लेन करना सुरू किया तुमने तो अभी असली पेनिस देखा नहीं होगा…. कुँवारी हो ना…. और देखा होगा तो छ्होटे बच्चे का; छ्होटी मोटी नूनी… पर बड़े होने पर जब ये खड़ा होता है… मादा की योनि मे घुसने के लिए तो ऐसा हो जाता है….” उसके बाद उसने पेनिस के मुण्ड के सामने वेजाइना (चूत) बना दी.. वैसी ही सुंदर… मोटी-मोटी

फाँकें…बीच में पतली सी झिर्री.. और उपर छ्होटा सा क्लाइटॉरिस( दाना) .नर लंड से इस तरह धक्के देता है कि जिस से मादा के दाने पर रगड़ पॅड सके. दाने पर मुश्रूम जैसे सूपदे की रगड़ से इस दाने में इतना आनंद आता है कि मादा यानी लड़कियाँ सब शरम छ्चोड़ कर मज़े लेती हैं, शादी से पहले ही..स्वर्ग का मज़ा लेती हैं ..” रीता ने पुछा-” मेम…स्वर्ग का मज़ा कैसा होता है ? संजू नर है और मैं मादा ,क्या संजू से भी मुझे वो आनंद मिल सकता है ?” मैने कहा-“हाँ हाँ… क्यों नहीं,

संजू तुम को स्वर्ग की सैर करा देगा क्योंकि तुम दोनों के जनन अंगों को पता नहीं है कि तुम दोनों बहन-भाई हो ,वैसे आएशा की तराहा तुम भी अपने भाई के साथ मज़े ले सकती हो, मैं ये बात तेरे मम्मी-पापा या किसी और को नहीं बताउन्गि लेकिन संजू को मेरी भी लेनी होगी

बोल दिया ना आपकी सारी सरतें हमे मंजूर हैं, रीता ने पुछा- “नर का असली अंग देखने में कैसा होता है? मेने छ्होटे बच्चो का और केवल तस्वीरो में ही देखा है”.यह सुनसंजू हंस पड़ा.मेने संजू की पेंट की ज़िप को नीचे कर उसका लिंग निकाल कर रीता के हाथों में थमा दिया. मेरा दिल धक से रहा गया. इतना मोटा और लंबा लंड…जैसे लंड निकाल कर घोड़ा खड़ा हो…मुझे यकीन नहीं .हुवा…. उसे देख कर मेरे दिल में सिरहन दौड़ गयी .हे रे… इतना बड़ा लंड…! इतना मोटा लॉडा !उसका सूपड़ा तो कुच्छ ज़्यादा ही मोटा था. रीता ने कहा “ओई मा, ये तो

गधे का लॉडा है , मेने गधे का एक बार देखा था, गधि के पिछे निकाल कर खड़ा था.ये तो मेरी चूत का तो बुरा हाल कर देगा,- देखो मेरी हथेली इसके भार से नीचे को झुक रही है ! और यह क्या? इसका आकार किसी दैत्य की तरह बढ़ता जा रहा है.सच मूच इस बेशरम को पता नहीं है कि हम दोनो बहन-भाई हैं, कैसे मादा को देख कर तौप की तरह खड़ा हो गया है , नर के लंड को देख कर मेरी छूट का लहसुन भी तो मोटा हो कर तन गया है और चूत के मूह मे
पानी आगेया है-मुई जानती ही नही के ये इसके भाई का लंड है!

रीता ने पुछा-” में ये सूपड़ा ऐसा कटावदार और इतना मोटा क्यों है ? में क्या ज़्यादा मोटाई से मादा को दर्द नहीं होता है? “मैने कहा-“नहीं, ये ही सूपड़ा तो मादा के लहसुन से लेकर चूत को अंदर तक रगड़ते हुए नाभि से यानी गरभ की जड़ मे टकराता है और स्वर्ग का मज़ा देता है.इसका एक मात्र कार्य सेक्स-आनंद देना है,.सूपड़ा ज़ितना मोटा और लंड ज़ितना लंबा होगा मादा को उतना ही जोरदार और ज़्यादा स्वाद आता है, छ्होटे लंड से उतना मज़ा नहीं आता है “.

फिर संजू को मैने मेरे बेड रूम में बुला कर मैने संजू की कमर में हाथ डाल कर उसके होंठो को चूमना चालू कर दिया. उसने भी मेरी कमर मे अपना हाथ कस दिया. उसके लॉड की चुभन मेरे चूत के आस पास होने लगी. मैने धीरे से उसका लंड पकड़ लिया. उसके हाथ मेरे बोबे पर जम गये और उन्हें दबाने लगे. रीता जल्दी से आई और संजू को खींचने लगी…मुझे बाद में पता चला कि वो अपने मम्मी पापा को कई बार सेक्स करते और चुम्मा चुसाइ करते देख चुकी है

और सेक्स के बारे में अपनी सहेलियों से भी बहुत कुच्छ जानकारियाँ ले रखी है.
उसने अपनी स्कर्ट उतार कर फेंकी. संजू… आओ ना…आजा मेरे राजा ” संजू खिंचता हुया चला गया …और रीता के गाल पर एक चुम्मा ले लिया और फिर पूरे गाल को ही मूह मे भर कर चूसने लगा. आह आह मेरे राजा भैया ‘आइ लव यू’ रीता ने अपने होंठ संजू के होंठों पर रख दिए और होठों से होंठ मिला कर चूमना सुरू कर दिया चूमते चूमते दोनों भाई-बेहन होंठ ऐसे चूस रहे थे जैसे कोई फल खा रहे हों दोस्तो कहानी अभी बाकी है इंतजार कीजिए अगले भाग का आपका दोस्त राज शर्मा
क्रमशः………