भाभी के साथ रंगरेलियाँ–2

दोस्तो अब तक आपने पढ़ा कि कैसे मैने भाभी को पटाया और उन्हे बिस्तर मे लेकर आया अब आगे की कहानी

भाभी के साथ रंगरेलियाँ–1 से आगे ……………………..
Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai

जैसे ही झटके से लंड अंदर गया उनकी चीख निकल पड़ी.आआआअहह अहह वो मोन करने लगी मेरे हाथ उनके कुन्हो पे कस गये और लंड चूत मे अंदर बाहर होने लगा फ़च पहचछचह की आवाज़ आ रही कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मैने भाभी को घोड़ी बना दिया और उनकी छातियो को मसलते हुए चूत मारने लगा भाभी के बदन मे कंम्पकंपी बढ़ती जा रही थी और वो लगातार मेरा जोश बढ़ा रही थी

हहिईीईईईईईईईईईईईईईईईईई हीईीईईईईईईईईईईई मेरे राजा मज़ा आ गया मेरे राजा बस ऐसे ही करते रहो उफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ उफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ कितना मज़ा आ रहा है15 मिनिट तक उसी पोज़िशन चोदने के बाद मेरी साँस थोड़ा फूलने लगी थी क्यों कि मैं काफ़ी देर से जोरदार धक्के मार रहा था चूत से बहता रस भाभी की जाँघो तक पहुच गया था पर वो भी बराबर मैदान मे डटी हुई थी अब मैं पलंग पे लेट गया और भाभी को इशारा किया वो अब मेरे लंड पे बैठ गयी और अपनी गंद को हिलाने लगी

भाभी मेरे लंड पे झूल रही थी और उनकी आँखे मस्ती से बंद होने लगी थी थोड़ी देर बाद वो मेरे उपर लेट सी गयी जिस से उनके चूचिया मेरे चेहरे पे लटक गयी मैने आव देखा ना ताव और एक चूची को अपने मूह मे भर लिया और चूसना शुरू कर दिया अब भाभी सातवे आसमान पे थी वो पूरे जोश से मेरे लंड पे कूद रही थी

जब वो उपर नीच होती तो थप थप की आवाज़ आ रही थी मेरे हाथ उनको कुल्हो पे थे मैने उनकी गंद के छेद को सहलाना शुरू कर दिया बहुत ही छोटा सा छेद था मैने अपनी उंगली से उसको कुरेदना चालू किया तो भाभी अपने चूतड़ को टाइट करते हुए बोली ना देवेर जी उधर मत छेड़ो प्लीज़

पर मैं हल्के हल्की सहलाता रहा 5 मिनिट बाद वो काफ़ी ज़ोर ज़ोर से उपर नीचे होने लगी उनका चेहरा एकदम लाल सुरख हो गया था तभी उनके बदन ने झटका खाया और वो आ हाहह आह करते हुए निढाल होकर मेरे उपर लेट गयी और लंबी लंबी सांस लीने लगी

थोड़ी देर ऐसे ही रहने के बाद अब मैं उनके उपर आ गया और तबड तोड़ धक्खे मारने लगा उनकी साँस उखड़ रही थी उन्होने अपनी बाहें मेरी पीठ पे कस दी और मेरा हॉंसला बढ़ा ने लगी मैने 10-15 शॉट और मारे और अपने वीर्य से उनकी चूत को लबालब भर दिया और उनके उपर ही लेट गया हम अपनी अपनी सांसो को नियंत्रित करने की कोशिस कर रहे थे..

उस रात हमारा एक नया रिश्ता शुरू हो गया था जो ग़लत होते हुए भी खूबसूरत लग रहा था ,वो कहते हैं ना कि शुरू मे हर चीज़ अच्छी लगती है खैर, दो बार की चुदाई के बाद हम दोनो काफ़ी थक गये थे बदन से गर्मी फूट रही थी हम अभी भी नंगे लेटे हुए थे भाभी मुझसे लिपट ते हुवे बोली “

मैने तुम्हारी मन की मुराद पूरी करदी तुम्हे भी मेरा ध्यान रखना होगा और मुझे भी तुमसे कुछ चाहिए.”

मैने उनसे वादा किया कि मैं उनकी विश को हर हाल मे पूरा करूँगा. रात के 11 बज चुके थे पर हमारी आँखो मे नींद का नामोनिशान नही था उस वक़्त लग रहा था कि क्या पता ये रात कभी आए या ना आए अनिता मुझसे पूरी तरह खुल चुकी थी भाभी बोली क्यो ना एक-एक चाइ पी जाए मैने हाँ करदी उसने अपने कपड़े उठाए और रसोई की और जाने लगी तो मैने कपड़े छीन लिए और बोला कि जब घर मे और कोई नही है तो कपड़ो की क्या ज़रूरत है और उनको नंगी ही जाने को कहा जैसे ही वो जाने क लिए मूडी तो उनके मटकते हुए चुतडो को देख कर मेरे लंड मे सरसराहट शुरू हो गयी

और मैं भी रसोई की और चल दिया भाभी मेरी और देख के बोली कि यहाँ क्यू आ गये मैं बोला कि मैं आपके बिना एक मिनिट भी नही रह सकता और भाभी को पीछे से अपनी बाहों मे भर लिया और उनसे चिपक के खड़ा हो गया भाभी छाई बना रही थी और मैं उनसे छिपा हुआ उनके गरम शरीर का मज़ा लेने लगा मेरा लंड उनके चुतडो की दरार मे फसा हुआ था और गर्मी पाकर धीरे धीरे फूलने लगा था

भाभी मज़े लेते हुए बोली कि ये क्या मेरे चुतडो को चुभ रहा है तो मैने बोला कि खुद ही देख लो किसने रोका है तो भाभी ने अपने हाथ नीचे किया और मेरे लंड को पकड़ते हुवे बोली कि ये तो कही भी तन जाता है तो मैने कहा कि अब तो बस तुम ही इसके तनाव ख़तम करसकती हो और उनकी चूत को कसकर भींच दिया भाबी के मूह से चीख निकल गयी और वो मुझसे दूर हो गयी

उन्होने मुझसे शांत रहने को कहा और चाइ को दो कपो मे डालने लगी तो मैने उन्हे कहा कि डार्लिंग आज बस एक कप मे ही चाइ पिएँगे तो वो मुस्कुराने लगी अब हम बारी बारी एक ही कप से चाइ पी रहे थे महॉल काफ़ी रोमॅंटिक सा लग रहा था जैसे कोई फिल्म का सीन सो. चाइ ख़तम होते ही मैने अनिता को खीचकर अपनी बाहों मे भर लिया और उनके होंठ चूमने लगा भाभी भी मेरा साथ देने लगी मैने अपनी जीभ उनके मूह मे डाल दी और उनकी जीभ को चूसने लगा

भाभी तो पूरी खिलाड़ी औरत थी वो तो इशारे इस ही समझ जाती थी कि मैं क्या चाहता हू जैसे के मैं उनका पति हू लगभग 10 मिनिट तक हम एक दूसरे को चूमते रहे मेरा लंड नीचे अनिता की चूत के थोड़ा उपर रगड़ खा रहा था जिस से हमारे बदन मे एक अलग सी कसक पैदा हो रहा था अब मैने उनका मूह रसोई की स्लॅब की ओर कर दिया और उनको पीछे से पकड़ लिया और उनसे चिपकते हुवे गर्देन पे किस करने लगा

एक सेक्सी कहानी मे पढ़ा था कि औरत की गर्देन पे चूमने से उनको सेक्स जल्दी चढ़ जाता है मैं लगातार उनकी सुरहिदार गर्देन को चूम रहा था भाभी हल्के हल्के मोन कर रही थी अबकी बार मैने बिल्कुल आराम से उनको चोदने का सोच लिया था बीच बीच मे मैं उनके गालो को भी चूस रहा था भाभी बोली कि थोड़ा धीरे काटो कही निशान ना पड़ जाए मेरा लंड बुरी तरह से फडफडा रहा था और उनकी गान्ड मे घुसने के लिए बेताब हो रहा था

भाभी धीरे से फुसफुसा कर बोली कि चलो बिस्तर पे चलते है परंतु मैने माने कर्दिया और अपने हाथ उनके उन्नत उभारो पे पहुचा दिया भाभी की चूचिया बहुत ही ठोस थी जितना मैं उनको भींचता उतना ही वो फूलती जाती थी भाभी ने अपने कूल्हे थोड़ा पीछे की ओर कर्दिये और आगे की ओर झूक गयी अब उनकी छातियों को भींचने मे और भी मज़ा आने लगता साथ ही साथ वो अपनी मस्त गान्ड को लगातार हिला रही थी जिस से मेरा लंड बेकाबू होने लगा था

मुझसे कंट्रोल नही हो रहा था पर मैं थोड़ा लंबा जाना चाहता था इस लिए कोई जल्दी नही दिखा रहा था तभी मेरी नज़र रसोई मे रखी सहद की बॉटल पे गयी मैने भाभी को हटाया और बॉटल को उठा लिया मुझे ना जाने क्या सूझा मैने सहद को भाभी की छातियो मे डालना शुरू किया भाभी बोली ये क्या कर रहे हो मैने उन्हे चुप चाप देखने को कहा और

उनकी पूरी छातियो को शहद से भिगो दिया औब मैने उनकी बूब्स को बहुत ही प्यार से धीरे धीरे चाटना शुरू किया तो भाभी की मस्ती बढ़ने लगी उनकी पीठ दीवार से सट गयी थी मैं किसी बच्चे की तरह उनकी चूची पी रहा था भाभी के मूह से मादक सिसरिया निकलने लगी थी क्योंकि हम अकेले थे तो वो भी बहुत ही खुल के इस खेल को खेल रही थी

आहहहह

हह

हीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईइऐईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई

वो लगातार सिसक रही थी जब जब मेरी खुरदरी जीब उनकी चूचियों की घुंदियो पे फिरती तो उनके चूचियों का तनाव सॉफ महसूस हो रहा था उफफफफफफफफफ्फ़ उफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ उफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ करते हुवे वो बोली अब बस भी करो ना पर मैं ना माना और उनके बोबो को बारी बारी चूस्ता रहा जब तक कि वहाँ पे लगा सहद पूरी तरह ख़तम नही हो गया भाबी की गोरी गोरी छातियों का रंग सुर्ख लाल हो गया था

अब मैने उन्हे स्लॅब पे बिठा दिया और उनकी सूंड़ी को चूसने लगा भाभी तो जैसे पागल ही हो रही थी वो मुझे मना कर रही थी परंतु मैं तो एक अलग ही मुकाम मे जाने की सोच चुका था भाभी की जाँघो को पूरी तरह से फिलाने के बाद मैने काफ़ी सारा सहद उनकी चूत पे और झन्टो पे डाल दिया तो भाभी मेरी ओर देखते हुवे बोली तुम तो पूरे रसिया निकले और हँसने लगी

मैने कहा देखती जाओ आज कैसे रस निचोड़ ता हू और अपनी खुरदरी जीभ को भाभी की हल्की हल्की झान्टो पे फेरने लगा भाभी ने अपने हाथ पीछे की और टिका दिए मैने झांतो पे दाँत गढ़ाने लगा तो भाभी दर्द भरी आहे भरने लगी अब मैं धीरे धीरे नीचे की और आने लगा मैने जैसे ही चूत की गुलाबी फांको को अपने होंटो मे दबाया भाभी का बदन सिकुड गया और अँकखे मस्ती से बंद हो गयी भाभी अपनी मादकता मे और भी सुंदर लग रही थी

मैं लगातार चूत की फांको को चूस्ता जा रहा था ह्बीयेयेयीयाया हह उफफफफफफफफफफुऊऊुुुुुुुुुुुुुुुुुुुुुउउ

]हीईीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई हहिईीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईहह हहिईीईईईईईईईीहुंम्म्मंंननननननननननननननननननननननननननणणन् हहुउऊुुुुुुुुुुुुुुुुउउम्म्म्मममममममममममममममममममम ]जैसे आवाज़े उनक मूह से लगा तार निकल रही उनकी चूत से बहता हुआ कामरस सहद मे मिलकर एक बहुत ही मादक स्वाद लग रहा था अब मैने अपनी पूरी जीभ भाभी की गरमागरम चूत मे डाल दी और पूरे जोश से काम रस पीने लगा

भाभी ने अपने कूल्हे पूरी तरह से उपर उठा दिए ताकि मैं खुल के चूत का रस पी सकु मैं भी पूरी तरह उत्तेजित हो चुका था मेरा लंड बराबर पुकार रहा था कि मैं उसे चूत मे घुसा दू पर मैने ना जाने कैसे अपने आप को कंट्रोल किया हुआ था 5-6 मिनिट तक लगातार चूत को चाटने से भाभी पूरी तरह से गरम हो चुकी थी और लरजती हुई आवाज़ मे बोली देवेर जी अब बस करो अब जल्दी से कर लो रुका नही जा रहा है प्लीज़ मुझे छोड़ दो मैं अब नही रुक सकती मैने उनकी बातो पे कोई गोर नही किया और काम रस को पीता रहा उनकी चूत बहुत ही ज़्यादा रस बह रहा था

तभी उन्होने अपने बदन को कस लिया और मेरे मूह मे ही स्खलित होने लगी आआआआअहह आह मे गयी कहते हुवे उन्होने अपनी मोटी मोटी जाँघो ओ मेरे चेहरे पे कस दिया और उनकी चूत से बहते फव्वारे का पानी उडेलने लगी वो बुरी तरह से हाँफ रही थी उनका पूरा चेहरा टमाटर की तरह लाल हो गया था . मैने पूरा रस चाट चाट कर अच्छी तरह से सॉफ कर दिया उनकी गोरी चूत अब एकदम चमक रही थी अब मैने सहद को अपने लंड और गोलियो पे अच्छी तरह से लगा दिया और भाभी की ओर देखने लगा

भाभी मेरी और मंद मंद मुस्काने लगी और फॉरन ही फर्श पे बैठ गयी और अपने गुलाबी होन्ट मेरे लंड पे टिका दिए और बड़ी अदा से उसे चूमने लगी क्या बताऊ वो तो लंड चूसने मे एक एक्सपर्ट ही लग रही थी उनकी जीभ पूरे लंड पे घूम रही थी थोड़ी देर ऐसा करने के बाद उन्हने मेरे सुपाडे को मूह मे भर लिया और अपनी गीली लिज़लीज़ी जीभ उसपे

फेरते हुवे चूसने लगी

मुझे ऐसे लगा कि एक मिनिट मे ही मेरा पानी छूटने वाला है मैने अपने आँखे बंद करली और लंड को मस्ती से चुसवाने लगा अब मेरा पूरा लंड भाभी के मूह मे था वो पूरी मस्ती से लंड चूस

रही थी अब उन्होने लंड को बाहर निकाला और गोलियो को चूमने लगी भाभी का मैं गुलाम बन गया था मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था मैने भाभी के सर को कस के पकड़ लिया और अपने लंड को उनके मूह मे अंदर तक डालने लगा मैने ईक जोरदार झटका मार दिया जिस से भाभी को खाँसी आ गयी और आँखो मे पानी आ गया वो मेरी ओर थोड़ा गुस्से से देखते हुवे बोली कि जानवर मत बनो सबकुछ मुझ पे छोड़ दो मैं करती हू मैने उनसे माफी माँगी

उन्होने फिरसे मेरे लंड को मूह मे भर लिया और मुझे मज़ा देने लगी उन्होने अपने हाथो से मेरी कमर को थाम लिया और तेज़ी से लंड को अंदर बाहर करने लगी मेरी मस्ती लगातार बढ़ती जा रही थी अब मैने धीरे धीरे अपनी कमर को हिलाना शुरू कर्दिया था भाभी पूरे जोश मेरा लंड चूसे जा रही थी उनके मूह से थूक निकल कर उनकी छातियो पे गिर रहा था अब मुझे महसूस हो रहा था कि मैं झड़ने के करीब ही हू तो मैने उनके सर को कस कर थाम लिया और पूरा लंड उनके मूह मे क़ैद हो गया था

मैने उनको ज़ोर से चूसने का इशारा किया तो वो और तेज़ी से चुप्पे मारने लगी तभी मैने ज़ोर से झटका खाया और मैने पूरे ज़ोर से उनके सर को अपने लंड पे दबाते हुवे अपना वीर्य उनके मूह मे छोड़ना शुरू कर दिया अबकी बार काफ़ी ज़्यादा वीर्य निकल रहा था भाभी लगातार लंड से निकले वीर्य को पी रही थी आख़िर मैं निढाल हो गया पर भाभी लंड को जबतब पीती रही जब तक उन्होने अंतिम बूँद तक निचोड़ ली……….