नागपूरे वाली भाभी

Antarvasna Hindi sex stories Kamukta नागपूरे वाली भाभी – Indian Sex Story

हेलो दोस्तो, मैं अमित जाईपूरे से हू, मैं फिर से आपके लिए एक नयी कहानी लेकर आया हू. आब की बार मैं जो कहाँ आपको बतने जा रहा हू वो नागपूरे की भाभी की है और उनकी मर्ज़ी से लिख रहा हू.

बहुत दीनो के बाद मैने अपना फ़ेसबुक खोला था. मुझे फ़ेसबुक पर बहुत सारी रिकवेस्ट आई हुई ही और उनही मैं से एक रिकवेस्ट एक भाभी की थी जो की नागपूरे से थी. मैने पहले तो सोचा की जाईपूरे से नागपूरे बहुत हे दोड है.. लेकिन मेरी कुछ दिन उनसे बात हुई तो थोड़ा अच्छा लगा.

उसने बोला- आप यहा आ जयो… जो भी खर्चा होगा…वो मैं दे दूँगी.

तो कुछ दिन बाद मैने यूयेसेस-से बोला- ठीक है मैं आ ज़ाऊगा.

मैने रिज़र्वेशन करवाया और नागपूरे के लिए रवाना हो गया.

अगले दिन मैं वाहा पहुच गया और उसको कॉल किया… कॉल करने के बाद वो मुझे लेने आई.

उसने आने मैं 35 मिनिट लगा दिए… तो मुझे कुछ अच्छा नही लगा.

मैने उसे फिर से कॉल किया और पूछा – आप आ रही हो या नही… वरना मैं वापिस जाता हू.

तो उसने बोला- मैं रास्ते मैं हू… ट्रॅफिक बहुत ज़्यादा है… इसलिए टाइम लग रहा है.

मई बोला- ठीक है… पर जल्दी करो.

तो वो कुछ 20 मिनिट के बाद आई और उसने मुझे कॉल किया. मैने इधर-उधर देखा तो वो नही दिखी..फिर मैने कॉल अटेंड किया और पूछा- कहा हो?

वो बोली- मैं स्टेशन के बाहर की तरफ हू.

तो मैं बाहर चला गया. बाहर जाने के बाद मैने उसे देख तो लिया था लेकिन फिर भी कन्फर्म करने के लिए एक बार कॉल किया तो पता चला की वो मेरे सामने हे अपनी कार के पास खड़ी है. वो वोही थी… जिसे मैने देखा था.

दोस्तो… उसे देखते हे मेरे इतनी दोड के सफ़र के थकान एक मिनिट मैं गायब हो गयी.

मई उसके पास गया और ‘हेलो’ बोला.

वो एक ज़बरदस्त 36 इंच के मुम्मो वाले कामुक जिस्म की मालकिन थी.

उसने सारी पहई थी और एक दम ग़ज़ब लग रही थी. मेरा तो मॅन कर रहा था की वही सड़क पर पकड़ लू और पटक कर चोद डू. आज तक जितनी लड़कियो के साथ मैने चुदाई की थी… उन्मआई से सबसे ज़बरदस्त माल के जैसी इस भाभी के साथ आज मैं चुदाई करने वाला था. मैने सोचा की आज इससे पूरा खुश करना हे है चाहे कुछ भी हो.

आब हम स्टेशन से घर के लिए निकले और रास्ते मैं हे उसने बताया की उसके पाती उसे मैं रहते है, वाहा उनका बुयसनेस्स था और लगभग 2 महीने मैं मुश्किल से एक बार हे घर आते थे.

उसके एक बाकचा भी था… लेकिन कोई भी उसको देख कर बोल नही सकता था की वो एक बाकछे की मा है. हम कार से घर जा रहे थे… उसने जूत नही बोला था… रास्ते मैं सच मैं बहुत ज़्यादा ट्रॅफिक था.

हम लगभग आधे घंटे के बाद घर पहुचे… घर पहुच कर मैने यूयेसेस-से पूछा- आपका बेटा कहा है?

उसने बताया- वो अपनी अंकली के घर है…

मई- चलो अच्छा है.

वो मुस्कुरा दी…

तो मैं बोला- यार मुझे ज़रा नहाना है… बाथरूम कहा पर है?

तो वो बोली- रूको.. मैं अभी आती हू.

मैने पूछा- आपने अभी इसनन नही किया क्या?

तो वो बोली- यार 2 महीने से किसी के साथ माज़ा नही किया… तो आज आपके साथ नहाने का मूड है.

मई खुश हो गया और उसको आँख मार दे.

कुछ देर बाद हम दोनो बाथरूम मैं गये और मैने उसे अंदर जाते हे चुंबन करना शुरू कर दिया और साथ मैं शवर चालू कर दिया. चुंबन करते-करते मैने उसके मुम्मो के उपर ही हाथ सॉफ कर लिया.

फिर उसके कपड़े उतार दिए. आब वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी मैं मेरे सामने खड़ी थी. कुछ देर तक उनके जिस्म के साथ खेलने के बाद मैने उसकी ब्रा उतार दे और उसके मुममे उछाल कर मेरे सामने आ गये और मैं आउट ऑफ कंट्रोल हो गया. मैं उसके मुम्मो पर टूट पड़ा… वो भी पूरी तरह से गरम हो गयी थी.

फिर कुछ देर बाद उसकी पेंटी भी उतार दे… तो मैने देख की उसने चुत के बाल सॉफ नही किए थे… मैने पूछा- यार यह क्या है… कम से कम बाल तो सॉफ कर लेती…

उसने बोला- यार… आज तो सब कुछ आपके साथ हे करना है…मेरी जांतो को तुम हे बना दो ना…

तो मेरा दिल और भी ज़्यादा खुश हो गया.

उसके इतना बोलते हे मैने उसे पकड़ा और बाथरूम मैं नीचे लिटा दिया और वाहा से रेज़र जो की पहले से तैयार रखा था… उसे लेकर उसकी चुत के बालो को सॉफ किया.

दोस्तो… मैं जैसे-जैसे उसकी चुत के बालो को सॉफ कर रहा था…वैसे-वैसे उसकी गोरी गुलाबी चिकनी चुत… मेरे सामने आती जा रही थी और मेरा लंड टाइट होता जा रहा था.

आब 10 मिनिट तक बहुत हे ध्यान रख कर मैने उसकी चुत की सफाई की ताकि कही उसकी चुत पर कही भी ब्लेड की चोट ना लग जाए.

मेरी लगभग 20 मिनिट की मेहनत के बाद उसकी एक दम गोरी गुलाबी चिकनी चुत मेरे सामने थे. यार यूयेसेस चुत को कोई भी देख ले तो पागल हो जाए… तो हमे बाथरूम मैं कुछ एक घंटे से ज़्यादा वक़्त लग गया और इस बीच मैने उसको पूरा गरम कर दिया था. मैं इस दौरान उसकी चुत और मुम्मो के साथ जम कर खेला. मैने उसकी तरफ देखा तो उसकी आँखो मैं चुदाई का नशा पूरी तरह हो चुका था.

उसकी मदभरी आँखे…जैसे बोल रही हो- प्लीज़ यार आज तो मुझे चोद कर अपनी रंडी बना लो…

आब मुझसे भी रहा नही जा रहा था… तो मैं भी उसके उपर किसी भूके शेयर की तरह टूट पड़ा… लेकिन चुदाई का नियम है ना बिना चूमा-छाती और पूरे मुझे दिए बिना लड़की को खुश कर पाना नामुमकिन है.. सो मैने आपने आप को कंट्रोल किया और उसे बिस्तेर पर लिटा कर चूमन करने लगा और मुम्मो को दबाने लगा.

वो एक दम पागल हो रही थी और बुरी तरह से सीत्कार रही थी- आह अमित… कम ऑन प्लीज़.. चोद दो मुझे…

लेकिन मैने सोचा की आज इससे पूरा करना है ताकि इसकी ज़िंदगी की सारी कमी एक बार मैं हे पूरी हो जाए. तो मैने उसको चुंबन करने और मुम्मो को मसलना ज़ारी रखा औ जब तक वो पूरी तरह से गरम नही हो गयी… मैं उसे चुंबन कराता रहा और उसके मुम्मो को ज़ोर-ज़ोर से दबाता रहा.

लेकिन एस्सा करने से वो पूरी तरह भड़क गयी और मुझे नोचने लगी और वो अपना कंट्रोल खो चुकी थी.

सो आब वो ज़ोर-ज़ोर से रोने लगी- प्लीज़ अमित मेरी चुत मार लो… वरना मैं मार जायूंगी.

लेकिन यार अभी तो उसकी चुत चातना भी बाकी है और अपना लंड चुसवाना था.

मैने उसकी चुत की तरफ मूह लिया और उसको चातना चालू किया तो वो और ज़्यादा भड़क गयी.

मैने करीब 15 मिनिट लगातार बिना रुके उसकी चुत छाती.

आब मैने उसे सीधा लिटा कर अपने लंड को उसके मूह के अंदर पाले दिया और उसके मूह को छोड़ने लगा और फिर कुछ देर बाद 69 की अवस्था मैं आ गये.

काफ़ी देर चुत चातने के बाद मैने उसे एक दम मदमस्त कर दिया और फिर वो बुरी तरह तड़पने लगी.

आब देर ना करते हुए मैने उसे घोड़ी बनाया और अपना लंड उसकी चुत पर रख कर एक ज़ोर का झटका मारा… जिसे वो सहन नही कर पाई और बहुत ज़ोर से चिल्लई- उई… मा…. प्लीज़ इससे बाहर निकालो…

तो मैने उसके होतो पर अपने होठ रख दिए और कुछ देर तक उसकी चूचियो को मसालने लगा.

वो कुछ देर बाद नॉर्मल हो गयी.

मैने फिर से उसे छोड़ना चालू किया और एक ज़ोरदार झटका मार कर अपना पूरा लंड उसकी चुत मैं डाल दिया… जिस-से उसकी आँखो से आँसू आ गये.

आब कुछ देर बाद वो एक दम नॉर्मल हो गयी और गांड उठा कर मेरा साथ देने लगी. मैने भी अपने धक्के लगाने की रफ़्तार बहुत हे ज़्यादा तेज़ कर दी.

आब वो फुल एंजाय कर रही थी… मैने उसे लगभग 30 मिनिट तक लगातार चोदा जिसस-से वो उतेज़ित हो कर अकड़ गयी और झाड़ गयी. उसके बाद उसकी चुत से गरम राज से मैं भी झाड़ गया.

तो यूयेसेस ज़बरदस्त हॉट भाभी के साथ यह मेरा पहला रौंद था और यूयेसेस दिन 2 बार और चुदाई की.

मई वाहा 3 दिन रुका और इन्न 3 दीनो मैं हमने कम से कम 12 बार चुदाई का माज़ा लिया.

आब मेरा जाने का समय आ गया था लेकिन दोस्तो मेरा जाने का मॅन नही कर रहा था.

जाते समय मैं यूयेसेस-से बोला- आपको कभी भी मेरी जारोरात हो तो बठाना… मैं आपके लिए हमेशा तैयार हू. मेरी शाम की ट्रेन थी… उसने मुझे कुछ पैसे दिए और स्टेशन तक छोड़ने आई और मैं वापिस जाईपूरे चल पड़ा.

नागपूरे वाली भाभी – Indian Sex Story