एक औरत की दास्तान–21

सोनिया अब पूरी तरह गरम और चुदासि हो गयी थी… Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai उसकी पैंटी सलवार के अंदर उसकी चुनमुनिया से निकल रहे पानी से एक दम गीली हो चुकी थी…..निम्मी भाभी मौका देखते हुए उसके पीछे बैठ गयी…..और सोनिया की कमीज़ को पकड़ कर धीरे-2 ऊपेर उठाने लगी….जैसे ही सोनिया को इस बात का अहसास हुआ कि, निम्मी उसकी कमीज़ उतारने जा रही है…उसने दोनो हाथों से अपनी कमीज़ को पकड़ लिया…..”क्या हुआ सोनिया शरमा क्यों रही हो….यहाँ पर कोई गैर तो नही है…तुम्हारा बाय्फ्रेंड समीर ही तो है…..समीर देखो ना ये कैसी शरमा रही है…”

समीर ने सोनिया के मुँह से बाबूराव निकाला और नीचे बैठते हुए सोनिया के हाथों को पकड़ कर कमीज़ से छुड़वा लिया…..निम्मी भाभी ने तेज़ी दिखाते हुए सोनिया की कमीज़ पकड़ कर ऊपर कर दी….और फिर गले से निकाल कर नीचे फेंक दी…..सोनिया ने थोड़ा सा विरोध किया. पर समीर ने उसके होंटो पर अपने होंटो को रख कर सक करना शुरू कर दिया…और एक हाथ नीचे लेजा कर सोनिया की चुनमुनिया के ऊपेर रख दिया….चुनमुनिया पर समीर का हाथ पड़ते ही सोनिया के बदन में करेंट सा दौड़ गया…..और अपनी बाहों को समीर के गले में डालते हुए उसके बदन से चिपक गयी…..

पीछे निम्मी ने अपना काम जारी रखा और उसने सोनिया की ब्रा के हुक खोल दिए…जैसे ही सोनिया के जिस्म से ब्रा ढीली हुई, समीर ने ब्रा के स्ट्रॅप्स को पकड़ उसके कंधो से सरकाते हुए, उसकी ब्रा को भी उसके बदन से अलग कर दिया….धीरे-2 सोनिया को लिटाते हुए समीर उस पर सवार हो गया….और उसकी चुचि को मुँह में भर कर चूसने लगा…..सोनिया एक दम से सिसक उठी…..उसकी चुनमुनिया में कुलबुलाहट होने लगी…..ये देख निम्मी भाभी की चुनमुनिया भी और ज़्यादा लार टपका रही थी….उसने जल्दी से अपनी सलवार को उतार फेंका नीचे से वो बिल्कुल नंगी थी…..

और सोनिया की बगल में लेटते हुए उसने सोनिया के दूसरे मम्मे को मुँह में भर लिया…. अपने दोनो मम्मों को एक साथ चुस्वाते हुए सोनिया एक दम बहाल हो गयी……उसकी आँखे मस्ती में बंद होने लगी…..निम्मी भाभी ने सोनिया की चुचि को मुँह से निकाला और समीर को सोनिया की सलवार उतारने के लिए कहा…..समीर ने सोनिया की चुचि को मुँह से बाहर निकाला और सोनिया की सलवार का नाडा खोलने लगा…

निम्मी भाभी ने फिर सोनिया की चुचि को मुँह में भर कर सक करना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से उसकी दूसरी चुचि को मसलना शुरू कर दिया….”सीईईईई ओह्ह्ह्ह आंटी प्लीज़ आह मत करिए ना……” सोनिया ने मस्ती में सिसकते हुए निम्मी भाभी के सर को अपने बाहों में जाकड़ लिया….दूसरी तरफ समीर सोनिया की सलवार और पैंटी दोनो उतार चुका था….लोहा एक दम गरम था….सोनिया की चुनमुनिया पानी से एक दम भीगी हुई थी…चुदाई का स्वाद ली चुकी सोनिया एक दम मदहोश हो चुकी थी…और पिछले कई दिनो से तड़प रही थी…..

सलवार और पैंटी उतारने के बाद जैसे ही समीर सोनिया की टाँगों के बीच में आया. तो पूरी तरह गरम और मदहोश हो चुकी सोनिया ने अपनी टाँगों को घुटनो से मोड़ कर खुद ही ऊपेर उठा लिया…..ये देखते हुए निम्मी आंटी ने सोनिया को पकड़ कर उठाया. और खुद उसके पीछे आकर बैठ गयी….अपनी टाँगों को सोनिया की कमर के दोनो तरफ करके आगे की और सरकते हुए, उसने सोनिया को पकड़ कर अपने ऊपेर लेटा लिया…..

अब निम्मी भाभी नीचे लेटी हुई थी पीठ के बल और उसके ऊपेर सोनिया पीठ के बल लेटी हुई थी….सोनिया निम्मी भाभी की इस हरक़त से एक दम शरमा गयी थी….निम्मी भाभी ने अपने हाथों को नीचे की ओर लेजाते हुए, सोनिया की टाँगों को पकड़ कर ऊपेर उठा कर फेला दिया. जिससे सोनिया की चुनमुनिया का छेद खुल कर समीर की आँखो के सामने आ गया….सोनिया की टांगे तो निम्मी भाभी ने पकड़ कर ऊपेर उठा रखी थी….और समीर ने निम्मी भाभी की टाँगों को फेला कर ऊपेर उठाते हुए अपनी जाँघो पर रख लिया….

अब नीचे निम्मी आंटी की चुनमुनिया और ऊपेर सोनिया की चुनमुनिया दोनो उनकी चुनमुनिया से निकले हुए काम रस से लबलबा रही थी….अपने सामने चुदवाने के लिए तैयार दो-2 चुतो को देख समीर से रहा नही गया…उसने अपने बाबूराव के सुपाडे को सोनिया की चुनमुनिया की फांको के बीच -2 रगड़ना शुरू कर दिया…”सीईईईईईईई अहह समीर….” सोनिया ने सिसकते हुए अपने हाथो को अपने सर के नीचे लेजाते हुए निम्मी भाभी के सर को कस्के पकड़ लिया….और निम्मी भाभी ने सोनिया की गर्दन पर अपने होंटो को रगड़ना शुरू कर दिया…..

समीर ने सोनिया की चुनमुनिया के छेद पर अपना बाबूराव टिकाते हुए धीरे-2 अपने बाबूराव को आगे की ओर दबाना शुरू कर दिया….समीर के बाबूराव का मोटा सुपाडा जैसे ही सोनिया की टाइट चुनमुनिया के छेद में घुसा, सोनिया का पूरा बदन कांप गया…..और वो मछली की तरह छटपटाने लगी… समीर के बाबूराव का सुपाडा सोनिया की चुनमुनिया के छेद को बुरी तरह फैलाए उसके अंदर फँसा हुआ था…”हाई सोनिया अपने यार का लौडा अपनी चुनमुनिया में लेकर मज़ा आ रहा है ना…” निम्मी आंटी ने सोनिया की चुचियों को मसलते हुए कहा….

सोनिया: सीईईईई उंह हां आंटी बहुत मज़ा आ रहा है हाईए आंटी रोज समीर को यहाँ बुलाया करो ना……..

निम्मी: किस लिए बुलाया करूँ….

सोनिया: उंह जिसके लिए आज बुलाया है आंटी जी…..

निम्मी: तो ये बता दे आज किसके लिए बुलाया है….?

सोनिया: अह्ह्ह्ह चुनमुनिया में बाबूराव लेने के लिए अहह समीर डालो ना…..

निम्मी: देख समीर कैसे गिडगिडा रही है बेचारी…….डाल दे ना अपना लौडा साली की चुनमुनिया में.

समीर ने सोनिया की टाँगों को पकड़ कर और फैला कर एक ज़ोर दार धक्का मारा….बाबूराव सोनिया की चुनमुनिया की दीवारो को फेलाता हुआ अंदर जा घुसा….”सीईईईईईई हाई समीर ओह हां मारो….आ ह ओह सीईईईईई उम्ह्ह्ह्ह्ह उईंह अम्मी अहह बहुत मज़ा आ रहा है…..” समीर ने धीरे-2 अपने बाबूराव को सोनिया की चुनमुनिया के छेद के अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. समीर के झटको से सोनिया और निम्मी दोनो नीचे लेटे हुए हिल रही थी….करीब 5 मिनिट सोनिया की चुनमुनिया में अपना बाबूराव पेलने के बाद समीर ने अपना बाबूराव सोनिया की चुनमुनिया से बाहर निकाला और निम्मी की टाँगों को उठा कर चुनमुनिया के छेद पर बाबूराव को सेट करते हुए एक जोरदार धक्का मारा….”हइईए उफफफफ्फ़ समीर धेरीए अह्ह्ह्ह ओह मर गइई में सन्नी के पापा ओह्ह्ह्ह फाड़ दी रे मेरी चुनमुनिया……”

निम्मी: धीरे आह अहह धीरे कर ना ओह्ह्ह्ह…..सोनिया बोल ना समीर को धीरे करे आह ओह्ह्ह्ह ओह्ह्ह हाई रीए तेरे यार के लौडे ने मेरी भोषड़ी का कंचुबर बना दिया री…. रूम में थप-2 की आवाज़ गूंजने लगी….समीर पूरी रफ़्तार से निम्मी की चुनमुनिया की गहराइयों में अपने बाबूराव ठोक रहा था…निम्मी समीर के जवान लौडे को ज़यादा देर बर्दास्त नही कर सकती और सिसकते हुए झड़ने लगी…..”अह्ह्ह्ह अहईए आह ओह्ह्ह्ह समीर मेरी फुद्दि हाए मेरी चुनमुनिया पानी छोड़ने वाली आह अह्ह्ह्ह ओह्ह हो गयी हो गइई…सोनिया समीर ने कर दी मेरी चुनमुनिया ठंडी अहह अहह”

समीर: अहह भाभी तेरी भोसड़ी सच में बहुत गरम है….आह मेरा भी निकलने वाला है..

निम्मी: रुक जा समीर इस पर सोनिया का हक़ है……

समीर ने अपने बाबूराव को निम्मी की चुनमुनिया से बाहर निकाला और सोनिया की चुनमुनिया पर सेट करते हुए एक ज़ोर दार धक्का मार कर आधे से ज़्यादा लंड सोनिया की चुनमुनिया में पेल दिया….दर्द और मज़े के कारण सोनिया का बदन एक दम से अकड़ गया….समीर ने अपने बाबूराव को पूरी रफ़्तार से सोनिया की चुनमुनिया के अंदर बाहर करना शुरू कर दिया….निम्मी भाभी सोनिया के नीचे से निकल कर साइड में लेट गयी….और सोनिया की चुचि को मुँह में भर कर चूसने लगी….और दूसरी चुचि को समीर ने मुँह में भर लिया….और हमच-2 कर चोदते हुए चूसने लगा…..

कहानी अभी बाकी है दोस्तो

दोस्तो आप को कहानी कैसी लग रही है मुझे ज़रूर बताए मुझे आपके कमेंट्स का इंतजार रहेगा